Family sex story in Hindi

Family sex kahani free…

 

मेरी माँ किसी हूर से कम नहीं ! माँ कि age 38 है आज भी वो बहुत hot लगती है अब मैं आपको अपनी दीदी के बारे में बताता हूँ। मेरी एक प्यारी सी दीदी है नेहा ! वो मुझसे एक साल बड़ी है। उनकी उम्र 21 साल है। और घर मे दादी भी है। दादी की सादी कम age मै हाे गई थी दादी की age 50 है। तीनो बहूत खुवसुरत है मैं bsc का student हूॅ। मेरे घर मै मर्द के नाम पर मै ही हूँ।  मै छूटटी पर घर आय़ा था एक दिन मैने महसूस किया की दादी और माँ एक दुसरे को बहूत प्यार से देख रहे थे। ऊस रात को जब मै छत से नीचे आ रहा था तब मेने देखा की माँ और दादी दोनो एक दूसरे को kiss कर रहीं थीं मै ऐ सब देख कर हेरान रह गया लेकिन ये सब देख कर मेरा लडं खड. हो गया मै दरवाजे से टिका हूआ था। तब ही दरवाजा खुल गया और मै कमरे के अन्दर जा गिरा ये सब देख कर माँ और दादी दोनो हेरान रह गऐ और माँ गुससे मे वोली तू यहाँ क्या कर रहा है जा भाग यहाँ से मै वहाँ से चूपचाप अपने ऱूम मे आ गया और फिर मै बेड पर लेट गया लेकिन अब नींद कहाँ आने वाली थी।मेरे मन मे दोनो को चोद् ने के खयाल आ रहे थे।  Family sex kahani free

फिर मेने दोनो के नाम कि मुठ मारी और सो गया । सुबह का नाश्ता करने के लिए मै टेबल पर बैठ गया और नाश्ता करने लगा तभी मेरी नजर किचिन मे काम कर रही मेरी माँ पर गई मेने देख की वो आज सुट पहने हूई थी। वो एकदम नई दुलहन की तराह लग रही थी। माँ के दूध गजब लग रहे थे उन के दूध बडे बडे थे । माँ के दूध देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया । दादी मेरे पास मे ही वेठी थी। माँ के दूध देखते देखते मेरे हांथ से चममच गिर गई दादी मेरे लंड के ऊभार को देखते हूए दादी हँसते हूऐ बोली कया बेटा तूने आबतक इस का इस्तेमाल करना नही सीखा ये सुनकर मेरा लंड कड़क हो गया। और मै बंहा से अपने कमरे मे चला गया। लेकिन मैने जो नजारा देखा था उसकी वजह से मेरा लंड बेठनेका नाम ही नही लेरहा था मै उठ और लोबर उतार कर आपने लंड को देखा मेरा लंड बहुत बड़ा हो गया था। जोकि कभी भी इतना बड़ा नही हुआ था। मेने आपने आप से कहा की राज तू आज आदमी बन गया है। आब इन तीनो को अपनी औरत बनाना है। मेने सोच लिया की मुझे जलद ही कुछ करना पड़ेगा । मै बेड पर लेटा हुआ था तबही एक idea आया मेने सोचा कि कयो ना मै दोनो जब चूममा चाटी कर रहे होंगे तो मै उनका video बना लू फिर मै चूपके से उनके कमरे की खिड़की पर पहुँचा पर वो दोनो कुछ भी नही कर रहे थे। मेने बहाँ थोड़ी देर रूकने का फैसला किया लेकिन मुझे लग रहा था कही मेरा ये idea फेल ना हो जाय़े भी माँ दादी से कह रही थी की जो हमारे मुहोलले का लड़का हमे चोद्ता था बह हमेसा के लिये दुसरे सहर चला गया है अब हम कया करेगे तो दादी वोली की तू चिंता मत कर कोई ना कोई रास्ता जरूर निकले गा । दादी ने कहा की हमारा राज भी बड़ा हो गया है तो माँ ने कहा आप पागल तो नही हो गई हो बो मेरा बेटा है। तो दादी वोली साली कुतीया जब तू आपने लड़के से भी आधी ऊर्म के लड़के से चोद्वाती थी तब तुझे याद नही आया की उससे 8 साल बड़ा तेरा लड़का है। तो माँ ने दादी से कहा की आप अपने बेटे के साथ चूद् सकती हो पर मै नही । मै ये सब सुनकर हैरान था सुबाह मेने सोचा की दादी की तरफ से तो हाँ है लेकिन मै चहता था कि मै सबसे पहले माँ को चोदूं लेकिन माँ तो पहले ही मना कर चूकी है। तब मेने सोचा की ईस काम के लिए मुझे दादी कि मदद लेनी होगी मेने माँ से पूछा की दादी कहाँ है। माँ ने कहा की दादी तो छत पर कपड़े सुखाने गई है। मै तुरनत छत कि तरफ भागा छत पर पहुँचा और दादी से कहा दादी मै आपकी मदद चहता हूँ। मेने कहा मेने कल आप लोगो की बात सुनली है। दादी– बोली केसी मदद। मै माँ को चोद्नना चहता हूँ। दादी–बेटा तुझे पता ही होगा की उसने तुझसे चूदने से मना कर दिया है। दादी इस लिए तो मुझे आपकी मदद चाहिए । दादी बोली –मै कुछ सोचती हूँ तू चिंता मत कर बेटा तू कया अपनी माँ को बस चोदना चहता है। मुझे नही । मै– बोला नही दादी येसी बात नही है। मै आप को भी चोदूगा लेकिन पहले माँ को चोदना चहता हूँ। दादी –बोली एक idea है। मै– बोला कैसा idea दादी –बोली की तू उसे बलेकमेल कर तो बो तुझसे चूदनेके लिए तैयार हो जाएगी। मै– बोला कैसे करू बलेकमेल दादी –बोली बो तीन दिन पहले उस लड़के से तेरे कमरे मैं चूदी थी। उस समय तेरा computer चालू था। उस पर चलरहे थे। मै– बोला तो उससे कया । दादी –तू उस से कहना की उन दोनो का बन गया है। कयोकी का चालु था। मै– है। दादी मै समझ गया।  Family sex kahani free

फिर रात मे मै माँ का office से आने का ईनतजार करने लगा। माँ आ चुकी थी। खाना खाने के बाद बो नहाने चलीगई नहा कर उनहोने एक धासू सा कुरता पहना था। रात के 10बज रहे थे। मै उनके कमरे मे घूस गया । माँ ने बोला बेटा तू सोया नही। मै बोला नही मै आज आप के साथ सोऔगा
माँ बोली—बेटा तुम आब बडे़ हो गये हो। तुमहे डरना नही चाहिए ।
मै बोली—माँ बो लड़का चला गया इस लिए मै आगया हूँ।
माँ बोली—कोनसा लड़का।
मै बोली—इतनी जलदी भूल गइ आप । जिसका लँड़ मजे से लेती थी।
माँ बोली–तुझे कया मतलब है। मै किसी का भी लोड़ लू।
मै बोली–बा मेरे लोड़े की जगह किसी और लोड़े को और मुझे कोई मतलब नही । मै ऐसा नही होने दूंगा
माँ बोली–तू जा यहाँ से।
मै बोली–मै आब बड़ा हो गया हूँ। आब तुमहारी खुशी कि जिममेदरी मेरी है।
माँ बोली–माँ बोली ठीक है। बेटा चल पुरे करले आपने अरमान। मेने मन मे कहा की बलेकमेल करने की जरूरत ही नही पड़ी
माँ बोली–आव आ भी जा और हमारे माँ-बेटे के ईस रिशते को एक नया नाम दो।
मै बोली–आब मै तुझे बहुत चोदूंगा

माँ बोली–बेटा आज से मेरी इस चूत पर केवल तेरा हक है। आज मुझे जननत दिखा दे।
मै तुरनत उनसे चिपक गया उनके दोनो दूध मेरे सीने मे धसे जा रहे थे। मै माँ के कान मे बोला माँ आज आप दुबारा सुहागन बन जाओगी आज मेरा लंड तुमहारी चूत की पयास बुझयेगा। बेटा आजसे मेरा ये शरीर तुमहारा हुआ। फिर हमने kiss किया फिर मैने उनके बालो मे हाथ डाला और बालो को कस कर पकड़ लिया मेने उनके गुलाबी होंडो को आपने मुह मे ले लिया हिर मेने उनहे घुटनो पर बेठे को कहा फिर मेने अपना लंड निकाला और उनके मुह मे डाल दिया बो जोर जोर से चुसने लगी । कया मजा आरहा था जैसे की मै जननत मे हूँ। मेने उनके गाल पर एक तमाचा मार कर कहा सालि रंडी और जोर से चूस मेरा लोडा वो इतनी अचछी तराह से मेरा लोडा चूस रही थी। की मेने डीसाइड किया की आज मै इनका मुह चोद्ंगा। फिर मेने उनके सर को कस कर पकडा़ और उनके मुहँ को चोद् ने लगा। उनके मुहँ से पपचप पचप पपच चच चचच प पप प आबाज़ आ रही थी। मेरा पुरा 6 का लंड उनके मुहँ मे अनदर बाहर कर रहा था। माँ ने मुझे धकका मार कर आलग किया कयोकी उनको सांस लेने मे दिककत हो रही थी।

माँ बोली–बेटा तू आव मेरी चूत मार । मै बोली–नही माँ मै आज तेरा मुहँ चोदूंगा और फिर मेने आपना लंड उनके मुँह मे डाल दिया और जोर जोर से माँ का मुहँ चोदने लगा। 10-15 मिनट तक मै माँ का मुहँ चोदता रह। मेरा लंड पतथर की तरह हो गया था। मेरा छूट निकलने बाला था तभी मेने लंड उनके मुहँ मे जमकर घुसा दिया और माँ के मुहँ मे झड़ गया उनका मुहँ मेरे छूट से भर गया.  Family sex kahani free

मै बोली मेरी रंडी माँ चल पी जा मेरे लंड का जूस और माँ मेरे लंड का सारा जूस पी गई। माँ बोली–मेरे राजा बेटा आज से तू घर के बाहर मेरा बेटा है।और घर के अनदर मेरा पति । आ आब हम सो जाते है। मै उडा और आपने कमरे मे जाने लगा तभी माँ ने पिछे से आवाज लगाकर कहा बेटा तू ने आज आपनी माँ का मुहँ चोदा है। कल गांड और चूत भी चोदेगा तो फिर आलग कमरे मे सोने कि कया जरूरत आज से हम एक बैड पर सोंगे आ आपनी माँ से चूपक कर सो जा । फिर मै भी बैड पर लेट गया मै माँ की पीठ से चुपक गया । और मेने आपना एक हाथ माँ के सूट मे डाल दिया उनकी bra के अनदर डाल कर उनके दूध को जोर जोर से मसलने लगा मेने उने दूध को जोर से दबाकर रख और दबाए दबाए ही सो गया।

धन्यवाद …

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: