पहली बार टूर सेक्स की कहानी – First time tour sex story

Pahli bar tour sex ki kahani

मेरा नाम नयन है, दिल्ली का रहने वाला हूँ। सभी को मस्त करने के लिए मैं ये कहानी लिख रहा हूँ। यह कहानी पूरी तरह से सच है। बात उस समय की है जब मैं अपने कॉलेज के दूसरे वर्ष में था। मेरी क्लास में एक बहुत ही सुंदर लड़की पढ़ती थी जिसका नाम था सोनिया (बदला हुआ)। उसका फ़िगर 34-30-34 का था। मैं उस लड़की से मन ही मन में बहुत प्यार करता था लेकिन उसको बताने से बहुत डर लगता था की कहीं वो शिकायत न कर दे।

हमारी क्लास के सभी लड़कों की उस पर नजर थी। लेकिन वो एक बहुत ही नेक लड़की थी इन सब बातों से बिल्कुल दूर।

कुछ समय यों ही बीत गया। फिर एक बार हमारे कॉलेज का टूर मसूरी जाने का कार्यक्रम बना। उसमें बहुत से लोग जाने वाले थे। निश्चित दिन को हम सब लोग बहुत बस में पहुँच गए। मैं दो वाली सीट पर अकेला बैठा था और वो किस्मत से मेरे पास आकर बैठ गई। मैं मन ही मन बहुत खुश हो रहा था क्यूँकि सफर बहुत ही लंबा था और उससे बात करने का भी पूरा मौका था।

थोड़ी देर के बाद उसको नींद आ गई और उसने नींद में ही अपना सिर मेरे कंधे। पर रख लिया। मुझे बहुत अच्छा लगा लेकिन बस में झटके लगने के कारण वो जाग गई और उसने मुझसे सोरी कहा।

मैं- सोरी की जरूरत नहीं है, आप आराम से सो सकती हैं।

सोनिया- मुझे सफर में नींद आ जाती है और कुछ पता ही नहीं चलता।

इस तरह से धीरे धीरे हम इधर उधर की बातें करने लगे। थोड़ी ही देर में वो मुझसे खुल गई। मैंने भी बातों बातों में उसे छू लिया जिस का उसने कोई विरोध नहीं किया। मेरा साहस और बढ़ गया। जैसे ही हम मसूरी के पास पहुँचने लगे, उसे सर्दी लगने लगी और उसने कंबल ओढ़ लिया और मुझ पर भी डाल दिया। अब मैं उसे कंबल के अंदर से छूने लगा। मेरा लंड खड़ा होने लगा था। इस तरह तड़पते हुए हम मसूरी पहुँच गए और हमने होटल बुक कर लिया।

हम सबने साथ में डिनर किया। वो मेरे पास आई ओर थोड़ी देर सैर के लिए पूछा। मैंने हाँ कर दी।

रास्ते में मैंने उसे कहा- मैं तुमसे कुछ कहना चाहता हूँ, अगर तुम बुरा न मानो तो।

सोनिया- कहो !

मैं- तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो, मैं तुम्हें चाहने लगा हूँ।

सोनिया- मैंने ऐसा कभी नहीं सोचा।

मैं- तो अब सोच लो, मैं तुम्हारे जवाब का इंतज़ार करूँगा।

फिर हम वापिस आ गए।

मैं अगले दिन का बहुत बेताबी से इंतज़ार करने लगा। जैसे ही सुबह हुई मैं तैयार होकर उसके जवाब का इन्तज़ार करने लगा।

उसने हाँ कर दी थी। मैं खुशी के मारे उछल पड़ा था।

फिर हम 3 दिन तक एक दूसरे के साथ घूमते रहे। अब मैं उसे कहीं भी छू लेता था तो उसे प्रोब्लम नहीं होती थी। फिर एक दिन मैंने उसे एकांत में चूम लिया, वो बहुत शरमा गई थी।

मैंने अगले दिन उसे चोदने की योजना बनाई। मैंने उसे कहा- कल जब सब लोग घूमने चले जाएँगे तो हम होटल में ही रुक जाएँगे।

वो मान गई।

अगले दिन जैसा तय हुआ वैसे ही किया। हम होटल के एक कमरे में थे। उसने एकदम तंग नीले रंग का टॉप और जीन्स पहन रखी थी। उसके बड़े बड़े चूचे बहुत सेक्सी लग रहे थे। मैं उसके पास बैठा था और हम टीवी देख रहे थे। वो रिमोट के लिए मुझसे लड़ने लग गई और इस इस लड़ाई में मेरे हाथ कभी उसके बूब्स पर तो कभी उसके कूल्हों पर लग रहे थे। मैंने उसे अपने नीचे लेटा लिया और उसके दोनों हाथ पकड़ लिए थे। मैं धीरे से उसके ऊपर झुका ओर उसके होंठों को चूम लिया। वो सिस्कारने लगी।

  यह कहानी आप HotSexyStories.in में पढ़ रहें हैं।

मैंने एक और ज़ोर का चुम्बन किया तो उसने मुझे कस कर पकड़ लिया। मैं धीरे धीरे उसकी गर्दन पर चुम्बन करने लगा। फिर मैंने उसके चूचों को पकड़ लिया और दबाने लगा।

वो मस्त हो रही थी और आह ऊहह आई करने लगी।

मैंने उसके टॉप के अंदर हाथ डाल दिया और कुछ देर बाद उसके टॉप को उतार दिया। उसने सफ़ेद रंग की ब्रा पहनी हुई थी। फिर मैंने उसकी जीन्स भी उतार दी। उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी जिसमें वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी। अब वो एकदम गर्म हो चुकी थी। उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था, उसकी पैंटी गीली हो चुकी थी, वो कराह रही थी और कह रही थी- प्लीज कुछ करो, मुझे कुछ हो रहा है।

मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी और उसके चूचों को चूसने लगा। बहुत ही मजा आ रहा था।

उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी, धीरे धीरे मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी। उसकी चूत को देख कर तो मैं पागल ही हुए जा रहा था। मन कर रहा था कि अभी इसमें अपना लंड डाल दूँ लेकिन मैं जल्दी नहीं करना चाहता था।

फिर मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया। वो ज़ोर जोर से आई ऊई आहह करने लगी। कुछ देर उसकी चूत चाटने के बाद उसका बदन अकड़ने लगा और उसकी चूत ने अपना पानी छोड़ दिया।

फिर मैंने उसको दोबारा गर्म किया और कहा- अब मैं तुम्हारी चूत में अपना लंड डालूँगा। एक बार थोड़ा दर्द होगा, लेकिन बाद में बहुत मजा आएगा।

मैंने उसकी चूत पर अपना सुपारा रखा और रगड़ने लगा।

वो बोली- ऐसे मत सताओ प्लीज ! अंदर डाल दो।

मैंने धीरे से एक झटका मारा लेकिन अंदर नहीं गया। मैंने फिर कोशिश की। इस बार एक ज़ोर का झटका मारा और सुपारा अंदर चला गया। उसने चीखने की कोशिश की लेकिन मैंने उसका मुँह दबा लिया था। उसकी झिल्ली फट गई थी, खून भी आ रहा था। उसकी आँखों में आँसू आ रहे थे। मैंने उसको थोड़ी देर चूमा तो फिर वह अपने चूतड़ हिलाने लगी। मैंने एक और झटका मारा और आधा लंड अंदर चला गया। उसे अभी भी काफी दर्द हो रहा था। मैंने एक और झटका मारा और पूरा लंड अंदर चला गया। अब मैं धीरे धीरे शॉट लगाने लगा। अब उसका दर्द कम हो गया था। वो भी अब अपने कूल्हे चलाने लगी थी।

कुछ देर इस तरह से चोदने के बाद मैंने उसे कुतिया बन जाने को कहा और उस पोजिशन में उसे चोदने लगा। पुच पुच की आवाज से कमरा गूंज रहा था। उसकी मादक सीत्कारें मुझे मदहोश कर रही थी। मैं ज़ोर ज़ोर से उसे चोदने लगा। वो भी बीच बीच में कहने लगी- फक मी जानू, फक मी हार्डर।

आप  हमारे  official Telegram Channel चैनल से जुड़े …. 

मैं उसे करीब 15 मिनट तक चोदता रहा। इस बीच वो 2 बार झड़ चुकी थी। मेरा भी निकलने वाला था। मैं ज़ोर ज़ोर से शॉट लगाने लगा और उसकी चूत मी झड़ने लगा। मेरा गर्म गर्म माल उसकी चूत में जाते ही वो भी एक बार और झड़ गई। मैं उसके ऊपर ही गिर गया। हम दस मिनट तक ऐसे ही लेटे रहे। फिर मैं उसे बाथरूम ले गया। उससे चला भी नहीं जा रहा था। हमने एक दूसरे को साफ किया। जब तक बाकी लोग वापिस आए हमने तीन बार चुदाई की।

यह सिलसिला दो साल तक चलता रहा फिर उसकी शादी हो गई, मैंने एक नई गर्लफ्रेंड ढूंढ ली।

उसको मैंने कैसे चोदा। ये कहानी फिर कभी।

आप लोग बताएँ कि आपको यह कहानी कैसी लगी ताकि मैं और कहानी लिख सकूँ।

The End…


Tour Par Chudai

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम रोहित है और में दिल्ली का रहने वाला हूँ.. मेरी उम्र 28 साल है और मेरी लम्बाई 5.6 इंच है. दोस्तों में आज अपनी एक सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हूँ और यह मेरी पहली कहानी है. दोस्तों वैसे मुझे सेक्सी कहानियाँ पढ़ना बहुत अच्छा लगता है और में इसकी वजह से सेक्स के बारे में बहुत कुछ सीखने लगा हूँ और मुझे सेक्स करना बहुत अच्छा लगता है.

अब आप सभी को ज़्यादा बोर ना करते हुए में अपनी आज की कहानी पर आता हूँ. दोस्तों यह बात तब की है जब हमारे यहाँ से घुमने के लिए एक बस गई हुई थी और तब मुझे मेरे घर वालो ने ज़बरदस्ती उनके साथ भेज दिया था और वो बस रात को चलकर मॉर्निंग में पहुंची और जब में सोकर उठा तो मेरी नजर खिड़की वाली सीट थी और मेरी नज़र उठते ही एक बहुत सुंदर लड़की पर पड़ी.. जो काले कलर के टॉप और नीली कलर की जीन्स पहने हुई थी और वो भी हमारे साथ ही उस बस में थी.

तो में उसे घूरकर देखता ही रह गया और उसका फिगर कुछ इस आकार का था कि कोई भी इंसान उसे एक बार देखकर अपना लंड पकड़ ले. उसके फिगर का साईज 32-26-34 था और फिर बाद में जब मैंने इधर उधर पता किया तो मुझे पता चला कि वो अपनी दादी माँ के साथ थी. तो मैंने उसकी दादी से बातचीत चालू कर दी और उसकी दादी मेरे व्यहवार से बहुत खुश हो गयी और इस तरह मैंने उससे बात करते और हंसी मजाक करते हुए तीन दिन में उसे बहुत अच्छी तरह पटा लिया था.

फिर तीसरे दिन जहाँ पर हम लोग रुके थे… वहाँ पर एक नदी थी और मैंने उसे नदी पर चलने को कहा.. तो वो अपनी दादी से कपड़े धोने का बहाना लेकर मेरे पीछे पीछे नदी पर आ गयी. तो वहाँ नदी पर बहुत सारे लोग थे और वो सभी नहाने धोने में लगे हुए थे. तो हम उन लोगो से थोड़ी दूर जहाँ पर आस पास कोई नहीं था वहाँ पर नदी किनारे जाकर बैठ गए और पहले मैंने उसकी कपड़े धोने में मदद की और बाद में जब थोड़ा थोड़ा अंधेरा हो गया तो हम एक साथ साथ नहाने लगे और हमे नहाने में बहुत मज़ा आया और लगभग 20 मिनट नहाने के बाद उसे थोड़ी ठंड लगने लगी. तो वो एक पत्थर के पास जाकर खड़ी हो गयी और उन गीले कपड़ो में तो वो और भी बहुत सेक्सी लग रही थी.

तो मैंने थोड़ी हिम्मत करते हुए उसे पीछे से जाकर पकड़ लिया और उसके मुहं से थोड़ा धीरे से आहह उह्ह्ह्ह निकल गयी और वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी.. लेकिन मैंने अपनी पकड़ को और भी मजबूत बना लिया. तो कुछ देर बाद वो एकदम थककर ढीली पड़ने लगी और उसने अब मेरा विरोध करना बंद कर दिया था. फिर वो कहने लगी कि तुम यह क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कि वही जो तुम देख और महसूस कर रही हो. तो उसने कहा कि नहीं यह सब बहुत गलत है प्लीज मुझे छोड़ दो वरना कोई हमे देख लेगा. तो मैंने उससे कहा कि तुम चिंता मत करो.. किसी को कुछ भी पता नहीं चलेगा और मैंने वहीं पर थोड़ी साफ जगह देखकर उसे वहीं एक बड़े से पत्थर पर लेटा दिया और उसके ऊपर आ गया और में उसे किस करने लगा..

हमारी पहली किस लगभग 5 मिनट तक चली थी और उसके बाद मैंने उसे किस करते हुए उसके नरम मुलायम.. लेकिन एकदम तने हुए बूब्स को छुआ. तो वो एकदम उठी और मुझसे एकदम किसी नागिन की तरह ज़ोर से लिपट गयी और मैंने धीरे से उसका टॉप निकाल दिया और अब वो मेरे सामने काली कलर की ब्रा में थी. तो में उसे इस रूप में देखकर पागलों की तरह उस पर टूट पड़ा. मैंने उसकी ब्रा को भी उतार दिया और उसके बड़े बड़े तरबूज के आकार के बूब्स को चूसने लगा और धीरे धीरे उसके हल्के भूरे कलर के निप्पल को काटने लगा.. जिसकी वजह से वो पूरी तरह से मदमस्त हो गयी और अब मैंने कदम आगे बड़ाते हुए उसकी जीन्स को भी निकाल दिया और मैंने देखा कि उसने काली कलर की जाली वाली एकदम सेक्सी पेंटी पहन रखी थी और उसकी पेंटी पूरी तरह से गीली हो चुकी थी.

फिर जब में उसकी पेंटी उतारने लगा तो वो बोली कि रोहित पहले अपने कपड़े तो उतार लो.. तो मैंने कहा कि तुम खुद ही उतार दो और फिर उसने जल्दी जल्दी मेरे सारे कपड़े उतार दिए और तब मैंने महसूस किया कि वो पत्थर जिस पर हम दोनों लेटे हुए थे वो बहुत ही ठंडा था और वो मेरा लंड जो 7 इंच लम्बाई का है उसे एकदम अपने सामने सांप की तरह फन फैलाकर खड़ा हुआ देखकर बोली कि यह इतना बड़ा मेरे अंदर कैसे जाएगा? तब मैंने कहा कि तुम बस इसका कमाल देखती जाओ और बस मज़े लो.. क्योंकि यह अपना रास्ता खुद ही बना लेगा.

तो में उसके दिल से मेरे लंड का डर दूर करने और उसे जोश में लाने के लिए में उसके बूब्स को धीरे धीरे सहलाने और उसकी गीली छटपटाती हुई चूत चाटने लगा. जिससे वो बिल्कुल पागल हो गयी.. वो मेरे सर को पकड़कर अपनी चूत पर दबाने लगी और कहने लगी कि प्लीज थोड़ा जल्दी करो में अब और नहीं सह सकती.. प्लीज जल्दी करो. तो मैंने कहा कि अभी रूको और मैंने उससे अपने लंड को मुहं में लेने को कहा और वो मना करने लगी कि यह बहुत गंदा है.. लेकिन मेरे ज़िद करने और बहुत समझाने के बाद वो मान गयी और उसने लगभग 10 मिनट तक मेरे लंड को चूसा.

फिर मैंने उसे सीधा लेटाया और लंड को उसकी चूत के मुहं पर रगड़ने लगा.. जिससे वो मदहोश हो गयी और अब वो लंड को अपनी चूत के अंदर डालने के लिए गिड़गिड़ाने लगी. फिर मैंने एक जोरदार करारा झटका लगाया.. जिससे मेरे लंड का सुपड़ा उसकी चूत में फंस गया और उसकी एकदम ज़ोर से चीख निकल गयी.

उसकी आँखो से आँसू निकल गये थे और वो मुझसे मेरे लंड को बाहर निकालने के लिए बोलने लगी और कहने लगी कि प्लीज रोहित इसे बार निकालो वरना में मर जाउंगी.. लेकिन मैंने उसके आंसू की परवाह ना करते हुए धीरे धीरे लंड को धक्का देकर अंदर डालना चालू रखा और उसका दर्द के मारे बहुत बुरा हाल हो रहा था और करीब 10 मिनट के बाद मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में जा चुका था.

आप  हमारे  official Telegram Channel चैनल से जुड़े …. 

फिर मैंने धीरे से अंदर बाहर करना चालू कर दिया और थोड़ी देर के बाद उसे भी मज़ा आने लगा और अब वो भी नीचे से अपनी गांड को उठा उठाकर धक्के लगाने लगी और वहाँ पर इतनी ठंड में भी हम दोनों को पसीने आ रहे थे. करीब 15 मिनट के बाद जब में झड़ने को हुआ तो मैंने उसको बताया.. तो वो बोली कि तुम मेरी चूत के अंदर ही छोड़ दो मुझे कोई प्राब्लम नहीं है और तब तक वो भी एक बार झड़ चुकी थी.

मैंने ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर अपना सारा वीर्य उसकी चूत में डाल दिया और में कुछ देर लंड को चूत में अपनी जगह पर रखकर रुक गया. फिर जब लंड अपने आप छोटा होकर बाहर आया तो मैंने उसे साफ किया और फिर हमने अपने कपड़े पहने और जल्दी से बस में आ गये. उसकी दादी उसके लिए बहुत परेशान हो रही थी. तो हमने बोल दिया कि तेज बहाव के कारण इसका एक टॉप नदी में बह गया था जिसको पकड़ने के चक्कर में हम लेट हो गये. फिर अगले दिन सुबह जब में फ्रेश होने के लिए गया तो मैंने देखा कि उस पत्थर पर उसकी वर्जिनिटी और हमारे प्यार की निशानी खून के रूप में नजर आ रही थी. उसके बाद बचे हुए 6 दिनों में मैंने उसे लगभग 6-7 बार और चोदा और घर आने के बाद भी चोदा.. लेकिन अभी पिछले साल उसकी शादी होने के कारण दोस्तों मेरे पास चूत का अकाल सा पड़ गया.

Leave a Reply

%d bloggers like this: