मेरी माँ को और मुझे साथ में चोदा – Fuck my mom and me together part-2

Meri maa ko aur mujhe sath mein choda 2

मेरी नज़र माँ की चूत पर गयी, जिसपर हलके – हलके बाल थे और वो बड़ी सुंदर थी.

रामू बोला – आप माँ बेटी की चूत बहुत सुंदर है.

सच में, मैं बहुत किस्मत वाला हु, कि मुझे आप दोनों की चूत मिल रही है. सच में, मालिक बहुत किस्मत वाली है, जिन्हें आप जैसी बीवी मिली.

फिर उसने बारी – बारी हमारी चूत चाटनी शुरू की.

उसकी जीभ के हमले के आगे मेरी एक ना चली और मैं थोड़ी ही देर में झड़ गयी. कुछ देर बाद, माँ भी झड़ गयी.

अब उसने हमे खड़ा किया और हमारी ब्रा भी उतार दी.

माँ के निप्पल मेरे से थोड़े बड़े थे. वो बारी – बारी हमारे निप्पल को चूसने लगा. मेरी हालत ख़राब हो रही थी.

मैं माँ के पास गयी और उनके होठो को चूसने लगी.

कुछ देर बाद, माँ भी मेरा साथ देने लगी.

अब रामू ने हम दोनों को नीचे सेट किया और बोला – बताओ, किसको पहले चाहिए मेरा हथियार?

माँ कुछ बोलने लगी तो, मैंने रामू के लंड को सहलाते हुए बोला – राजा, वैसे तो ऐसे लंड को हर कोई पहले लेना चाहेगा. पर मेरी माँ बहुत देर से प्यासी है.

तो तुम इसी प्यास पहले बुझा दो. रामू बोला – ठीक है रानी. अब देख, मैं कैसे तुम दोनों की प्यास बुझाता हु.

फिर उसने माँ की चूत पर अपने लंड को सेट किया और होले – होले धक्का लगाने लगा. माँ की चूत काफी टाइट थी.

उनके मुह से उनकी सिसकिया पुरे कमरे में गूंज रही थी. अभी उसका आधा लंड ही माँ की चूत में गया था.

फिर उसने एक जोरदार धक्का दिया और पूरा लंड माँ की चूत में पेल दिया.

माँ का मुह खुला का खुला रह गया और जोरदार चीख निकली. वो वैसे ही कुछ देर रुका रहा और माँ के बूब्स सहलाने लगा. फिर वो होले – होले माँ को चोदने लगा.

और मेरे को अपनी ओर खीचा और मेरे होठो को चूसने लगा. माँ के हाथ मेरे चूचों को मसल रहे थे.

20-25 मिनट माँ को चोदने के बाद, वो नीचे लेट गया और मुझको लंड को बैठने को कहा.

मै उसके लंड पर बैठ गयी और माँ ने उसके लंड को हाथ में लिया और मेरी चूत में होले – होले डालने लगी. उसका लंड पूरी तरह से मेरी चूत में समा गया.

  यह कहानी आप HotSexyStories.in में पढ़ रहें हैं।

फिर मैं होले – होले अपनी चूत को आगे – पीछे करने लगी. माँ अपनी चूत को रामू की जीभ पर सेट करके मेरी तरफ मुह करके बैठ गयी.

हम दोनों एक दुसरे के मम्मो को सहला रहे थे और मैं अपनी जीभ माँ के मुह के अन्दर डाल दी थी. अब हमारी सेक्स में आँखे बंद होने लगी थी.

20 मिनट ऐसे ही रहने के बाद मैं और माँ झड़ चुके थे. पर रामू का अभी भी बाकी था.

फिर उसने माँ को नीचे लेटा दिया और उसकी टाँगे उठा ली और मुझे माँ पर लेटने को बोला. मेरा फेस माँ की तरफ था.

इस तरह हमारी चूत एक साथ रामू के सामने थी.

उसने अपना लंड माँ की चूत में डाला और फिर मैंने अपनी चूत में माँ की उंगलियों को महसूस किया.

वो हम दोनों को बारी – बारी से चोद रहा था. इस तरह चुदने में सच में मज़ा आ रहा था. अब उसने मुझे गोद में उठाया और खड़े होकर चोदने लगा.

इस तरह चुदने में मुझे सब से ज्यादा मज़ा आ रहा थाम क्योंकि इस तरह से चुदवाने में लंड पूरा बच्चेदानी तक जाता है. पुरे कमरे में हमारी सिसकारियां गूंज रही थी.

फिर उसने मुझे नीचे उतारा और माँ को बालो से पकड़ कर कुतिया बनाकर पीछे से चूत मारने लगा.

उसने मुझे अपनी तरफ खीचा और मेरे होठ को चूसने लगा.

माँ की उंगलियां मेरी चूत पर चल रही थी. फिर उसके झटके तेज होने लगे और एकदम उसने अपना लंड बाहर निकाला और हम दोनों को नीचे बैठने को कहा.

वो अभी लंड को सहलाने ही लगा था, कि माँ ने उसके हाथ को रोक दिया और अपने हाथ से उसके लंड को सहलाने लगी. कुछ ही देर में उसके लंड ने अपना पानी छोड़ दिया. उसने अपने अमृत की कुछ बुँदे माँ और कुछ बुँदे मेरे फेस पर और मेरे बूब्स पर गिरा दी.

आप  हमारे  official Telegram Channel चैनल से जुड़े …. 

माँ ने उसके लंड को अपने होठो से पूरा निचोड़ दिया और अपनी ब्रा से उसके लंड को पूरा साफ़ कर दिया और अपने शरीर और उसके लंड पर लगा सारा वीर्य अपनी ब्रा से पौछ डाला और ब्रा को पहन लिया.

रामू ने फिर हम दोनों को किस किया और बोला – सच में आप दोनों बहुत कयामत है. मेरी किस्मत अच्छी है, कि आप दोनों को चोदने का मौका मिला मुझे एक साथ. तभी माँ बोली – रामू, जानता है.. आज मैं कितने सालो बाद चुदी हु. तुमने सच में मेरी प्यास बुझ दी.

रामू – बीबी जी प्यास बुझाई नहीं, मैंने तो आपके शरीर में सेक्स की आग लगायी है.

तभी हम सब हसने लगे और माँ ने मुझे किस दिया और बोली – मेरी बेटी बिलकुल मुझपर गयी है. फिर हमने कपड़े पहने और आकर सो गये. सच में आज तो मज़ा ही आ गया.

तो दोस्तों, कैसी लगी आपको मेरी ये कहानी… 

The End…

Leave a Reply

%d bloggers like this: