पड़ोस की भाभी चुदाई कहानी Pados ki bhabhi ki chudai kahani

Pados ki hot sexy bhaibhi ki chudai kahani…

पड़ोस की भाभी को कैसे चोदा जानने लिये आप यें कहानी पढ़कर मज़ा ले सकते हैं शायद इस कहानी को पढ़कर आपके शरीर के बाल खड़े हो जाये और आपके लंड को भाभी की चुत का मज़ा लेने मैं मदद करें और आपकी यादें तजा हो जायें, यह मेरी भाभी के साथ पहला सेक्स की कहानी हैं, सोचा क्यों न आप सभी दोस्तों के साथ कहानी शेयर करूँ, मुझे आशा है की आपको कहानी जरूर पसंद आयेगा बढ़ते है …

मेरे पड़ोस मैं एक भैया-भाभी रहते है। भाभी का नाम अर्चना है और भैया का नाम राकेश, खुद का बिज़नेस है तो वो ज्यातर बहार ही रहते है,और भाभी घर में अकेली रहती है मुझे सुबह-सुबह घूमने की आदत है तो में पार्क में जाता था वहां भाभी भी आती थी घूमने पड़ोसी होने के नाते कभी-कभी उनसे बात हो जाती थी थोरे समय के बात ये बातचीत दोस्ती में बदल गई और हमने एक दूसरे के नम्बर भी ले लिए थे भाभी को कुछ काम होता तो मैं जब फ्री होता तब कर दिया करता था। एक दिन भाभी के पेट मे बहुत दर्द हुआ मगर उनके पति अपने काम के सिलसिले में बहार गए थे भाभी ने मुझे फोन लगाया और मैं उनके घर गया और उनको डॉ. के पास लेगया।

डॉ. ने कहा कुछ नही सिर्फ भूखे पेट की वजह से दर्द हुआ था फिर भाभी को उनके घर झोरा तो भाभी ने मुझे धन्यवाद कहा और हम अक्सर एक दोस्त की तरह रात को भी बात करते है एक दिन भाभी ने कहा आज मोहित मैं बोर हो रही हु। मेने कहा मैं भी आज बोर हो रहा था। तो मेने भाभी को कहा क्यो न मूवी चले पहले तो उन्होंने मना कर दिया मगर मेरे मनाने पर हा कहा भाभी जब तैयार होकर आई तो क्या कयामत लग रही थी। काली जीन्स, और वाइट् टॉप पहना था उनके पास जाते ही उनकी तारीफ करने लगा क्या खूबसूरत लग रही थी बात ही बात में उनको झेर भी रहा था। जब हम मूवी देख कर आये तो भाभी ने कहा मोहित मेरे घर चलो में तुम्हे हॉट काफी पिलाती हु मन ही मन मे खुश हुआ और सोचा आज तो कॉफी के साथ जूस भी पिने को मिलेगा।

हम अंदर गए तो भाभी ने मुझ से कहा तुम बेठो मैं चेंज कर के आती हु भाभी जब चेंज कर के आई तो लोवर और टीशर्ट पहन रखी थी क्या लग रही थी…  बोले तो आइटम | मैं उनके बॉब्स को ही देख रहा था ये बात भाभी ने नोटिस कर लिया और वो किचन में चली गई ओर हम दोनों के लिए काफी बना कर लाई और फिर ऐसे ही मजाक में मैने कह दिया क्या भाभी तो आप का क़त्ल करने का इरादा है क्या? भाभी समझी नही मेने कहा जब मूवी गए तो वहाँ भी कहर बरपा रही थी और यहां भी आप का पति किस्मत वाला है जो आप जैसी खूबसूरत वाईफ मिली भाभी ने कहा ऐसी कोई बात नही है उन्हें तो पैसे के अलावा और किसी से मतलब ही नही है । मतलब भाभी भी प्यासी थी थी तो मैने डायरेक्टर पूछ लिया तो फिर अकेले कैसे काम चलाते हो। भाभी ने कहा बस चल जाता है । मैं भाभी को गरम कर रहा था। जिससे वो चुदाई के लिए तैयार हो जाये मेने कहा कैसे तो उन्होंने कहा जैसे तुम अकेले करते हो में समझ नही पाया आप की बात भाभी उन्होंने कहा तुम सब समझ रहे हो मगर नाटक कर रहे हो तो तो मैने उनका हाथ पकड़ कर कहा तो क्यों न दोनों एक दूसरे के काम आजाये तो वो शर्माने लगी और उठ कर जाने लगी तो उनका हाथ पकड़ उन्हें अपनी गोदी में बैठा लिया और उन्हें किस करने लगा।

उसने अपनी जीभ को मेरे मुहं में डाल दिया और ज़बरदस्त किस करने लगी, मुझे ऐसा मज़ा पहले कभी नहीं आया था और किस करते वक्त मेरा लंड फटने को हो रहा था और मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरी नसो में खून बड़ी तेज़ी से बह रहा है। मैं उन्हें जबरजस्त किस कर रहा था तो वो भी मेरा साथ देने लगी थी और मैं उसे अपनी बाहों में लेता और हम एक दूसरे से चिपककर बहुत मज़े से किस करते। हमें बहुत मज़ा आता था, लेकिन वो अब भी चुदने को तैयार थी।

मेने बेड पर पटक दिया और उसके टीशर्ट को उसके शरीर से अलग कर के भाभी के बूब्स को मसलने लगा |

भाई बहन सेक्स कहानी

भाभी ने अपनी आँखे बंद कर ली थी और उसके बिल्कुल सफेद बूब्स अब मेरे सामने थे। फिर मुझसे रुका नहीं गया और मैं उन्हें चूसने लगा, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। फिर 5 मिनट बूब्स को चूसने के बाद मैंने उसके लोवर को उतारकर नीचे पटक दिया। फिर उसने अपने पैर से अपनी लोवर को एक तरफ सरका दिया और यह देखकर मैं बहुत खुश था और उसने अपनी आँखे बंद कर ली। मैंने देखा कि उसने पेंटी नहीं पहनी थी और उसकी चूत पर बहुत बाल थे।
मैंने चूत पर हाथ लगाकर देखा तो उसकी चूत अब तक बहुत गीली हो चुकी थी।

फिर मैंने सोचा कि अब और देर नहीं करनी चाहिए और मैंने अपनी बेल्ट को निकाल दिया और वहीं पर रख दी। फिर मैंने तुरंत अपनी पेंट को घुटनों तक उतार लिया मगर अभी भी उसकी आँखे अभी भी बंद थी। अब मैं अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा और तभी मेरा लंड फिसलकर नीचे से पीछे की तरफ निकल गया। उसने आँखे बंद किए ही भाभी ने हाथ से मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत के सही जगह पर लगा लिया और फिर मैंने ज़ोर से धक्का देकर पूरा लंड अंदर डाल दिया। चूत गीली होने की वजह से लंड आसानी से फिसलता हुआ अंदर चला गया। अब मैंने धक्के लगने शुरू कर दिए और वो तेज तेज सांस ले रही थी और मुझे तो इतना मज़ा आ रहा था कि मैं शब्दों में बता नहीं सकता, क्योंकि मैं आज पहली बार चूत मार रहा था, लेकिन तब में समझ गया कि सभी लोग इस चीज़ के लिए क्यों मरते है? फिर 5 मिनट बाद मैंने सोचा कि अब मैं पीछे से इसकी चूत मारता हूँ तो मैं उसे पकड़कर घुमाने लगा तो वो मुझसे बोली कि नहीं तुम आगे से ही करो। उसने सोचा कि में अब उसकी गांड मारने वाला हूँ।

यह कहानी आप Hotsexystories.in पढ़ रहें हैं।

फिर 5 मिनट और मैं उसे खड़े खड़े ही चोदता रहा। फिर मैंने भाभी से कहा कि चल अब नीचे लेट जा तो भाभी सोफे पर लेट गई और मैंने उससे कहा कि चल अपने हाथ से लंड पकड़कर अपनी चूत पर सेट कर तो उसने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत पर सेट कर दिया। फिर बोली कि चल अब कर तो मैं धक्के मारने लगा, तभी वो मुझसे पूछने लगी कि क्या तुमने पहले भी कभी किसी के साथ सेक्स किया है? तो मैंने कहा कि नहीं में आज तेरे साथ पहली बार कर रहा हूँ और मैं ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा और वो मुझसे बोली कि प्लीज थोड़ा धीरे धीरे करो और मैंने अपनी स्पीड को थोड़ी कम कर लिया, वो मुझे पागलों की तरह किस करने लगी और भाभी ने मुझे बहुत टाईट अपनी बाहों में भर लिया और फिर पीछे से मेरे कूल्हों को पकड़कर अपनी गांड ऊपर उठा उठाकर चुदाई का मज़ा ले रही थी। फिर करीब 10 मिनट के बाद वो बिल्कुल शांत हो गयी और मुझसे कहने लगी कि चलो अब हटो।

भाभी की चुदाई

फिर मैंने उससे कहा कि तेरा हो गया, लेकिन मेरा अभी नहीं हुआ। फिर वो बोली और कितनी देर लग़ेगी? मैंने कहा कि मुझे पता नहीं और मैं अब लगातार भाभी की चूत मार रहा था। आज मुझे लंड हिलाने से ज्यादा मज़ा आ रहा था। फिर वो कहने लगी बहुत दर्द हो रहा है आह … आह …आह … आह …आह … आह …आह … आह … करके चिलाने लगी और अपने नाखून से मेरे शरीर को कस कस के दबाने लगी । फिर मैंने कहा कि थोड़ी देर रुक बस अभी होने वाला है और करीब 15 मिनट और निकल गए तो वो कहने लगी और कितनी देर लगाओगे? अब तो करीब उसे चोदते हुए 50 मिनट हो गए थे।

मैं बहुत हैरान हो गया कि इतनी देर कैसे लग रही है, जबकि मैं आज पूरा मज़ा ले रहा हूँ और मुठ तो मैं करीब 2 मिनट में भी मार लेता हूँ और मैंने कई लड़को से पूछा था वो यही कहते थे कि पहली बार में तो 2 या 3 मिनट ही लगते है। अब मैंने उससे कहा कि मैं पीछे करना चाहता हूँ तो वो बोली कि नहीं पीछे बहुत दर्द होता है। मैंने कहा कि में बहुत धीरे धीरे से करूंगा, जब दर्द होगा तो नहीं करूंगा। फिर वो कुछ नहीं बोली। मैंने लंड उसकी गांड पर रख दिया और एक झटका लगाया तो वो एकदम से उछलकर पड़ी और नीचे बैठकर अपने चेहरे पर हाथ रखकर रोने लगी। अब में थोड़ी देर खड़ा रहा और फिर मैंने उससे कहा कि चलो ठीक है आगे ही करता हूँ। फिर तभी वो बहुत ज़ोर से चिल्लाकर मुझसे बोली कि नहीं करवाना मुझे। फिर मैं उनका गुस्सा देखकर बहुत डर गया आगे क्या हुआ ये जानने के लिए मेरी स्टोरी next पार्ट जरूर पढ़िये ये जल्द ही रिलीज़ होगा |

भाभी की चुदाई कहानी आप सभी को कैसा लगा comment बॉक्स में जरूर बतायें .

धन्यवाद …

Leave a Reply

%d bloggers like this: