Indian Sex Kahani – धोबी के फैमिली की चुदाई कहानी 8 | माँ को चोदा Sex Story…

Indian sex kahani Maa Beta Chudai 8 | तेजी के साथ भाला भाला कर मेरे लंड का सारा सारा पानी सीधे माँ के मुँह में गिरता जा रहा था….

तभी मेरे लंड का फव्वारा छुट पड़ा और. तेजी के साथ भाला भाला कर मेरे लंड से पानी गिरने लगा. मेरे लंड का सारा सारा पानी सीधे मा के मुँह में गिरता जा रहा था. और वो मज़े से मेरे लंड को चूसे जा रही थी. कुछ ही देर तक लगातार वो मेरे लंड को चुस्ती रही.  Desi Indian sex kahani Maa Beta Chudai part 8

मेरा लंड अब पूरी तरह से उसके थूक से भीग कर गीला हो गया था और धीरे धीरे सिकुड़ रहा था.

पर उसने अब भी मेरे लंड को अपने मुँह से ऩही निकाला था और धीरे धीरे मेरे सिकुड़े हुए लंड को अपने मुँह में किसी चॉकलेट की तरह घुमा रही थी.

कुछ देर तक ऐसा ही करने के बाद जब मेरी साँसे भी कुछ शांत हो गई तब मा ने अपना चेहरा मेरे लंड पर से उठा लिया.

और अपने मुँह में जमा मेरे वीर्या को अपना मुँह खोल कर दिखाया और हल्के से हंस दी.

फिर उसने मेरा सारा पानी गटक लिया और अपने सारी पल्लू से अपने होंठो को पोछती हुई बोली, ” मज़ा आ गया, सच में कुंवारे लंड का पानी बड़ा मीठा होता है, मुझे नहीं पता था की तेरा पानी इतना मजेदार होगा” फिर मेरे से पूछा “मज़ा आया की नही”, मैं क्या जवाब देता, जोश ठंडा हो जाने के बाद मैंने अपने सिर को नीचे झुका लिया था,

पर गुदगुदी और सनसनी तो अब भी कायम थी, तभी माँ ने मेरे लटके हुए लौरे को अपने हाथो में पकड़ा.  Desi Indian sex kahani Maa Beta Chudai part 8

आप  हमारे  official Telegram Channel चैनल से जुड़े …. 

और धीरे से अपने साड़ी के पल्लू से पोंछती हुई पूछी “बोल ना, मज़ा आया की नही,” मैने शर्माते हुए जवाब दिया “हाँ माँ बहुत मज़ा आया, इतना मज़ा कभी नही आया था”,तब माँ ने पुछा “क्यों?

अपने हाथ से नहीं करता था क्या”,

“करता हूँ माँ, पर उतना मज़ा नहीं आता था जितना आज आया है”

“औरत के हाथ से करवाने पर तो ज्यादा मज़ा आएगा ही, पर इस बात का ध्यान रखिए की किसी को पता ना चले ”

“हा मा किसी को पता नहीं चलेगा”

तब माँ उठ कर खड़ी हो गई, अपने साड़ी के पल्लू को और मेरे द्वारा मसले गये ब्लाउज को ठीक किया और मेरी ओर देख कर मुस्कुराते हुए अपने बुर के सामने अपनी साड़ी को हल्के से दबाया और साड़ी को चूत के ऊपर ऐसे रगडा जैसे की पानी पोछ रही हो.

मैं उसकी इस क्रिया को बड़े गौर से देख रहा था.

मेरे ध्यान से देखने पर वो हँसते हुए बोली “मैं ज़रा पेशाब कर के आती हू, तुझे भी अगर करना है तो चल अब तो कोई शर्म नहीं है”.

मैं हल्के से शरमाते हुए मुस्कुरा दिया तो बोली “क्यों अब भी शर्मा रहा है क्या”. मैंने इस पर कुछ नहीं कहा और चुपचाप उठ कर खडा हो गया.

वो आगे चल दी और मैं उसके पीछे पीछे चल दिया. जब हम झाड़ियों के पास पहुच गये तो माँ ने एक बार पीछे मुड कर मेरी ओर देखा.  Desi Indian sex kahani Maa Beta Chudai part 8

और मुस्कुराई फिर झाड़ियों के पीछे पहुच कर बिना कुछ बोले अपने साड़ी उठा के पेशाब करने बैठ गई. उसकी दोनों गोरी गोरी जांघ ऊपर तक नंगी हो चुकी थी.

और उसने शायद अपने साड़ी को जान बुझ कर पीछे से ऊपर उठा दिया था जिस के कारण उसके दोनों चूतड़ भी नुमाया हो रहे थे. ये सीन देख कर मेरा लंड फिर से फुफकारने लगा. उसका गोरे गोरे चूतड़ बड़े कमाल के लग रहे थे.

माँ ने अपने चूतड़ों को थोड़ा सा उचकाया हुआ था जिस के कारण उसके गांड की खाई भी दिख रही थी.

हल्के भूरे रंग की गांड की खाई देख कर दिल तो यही कर रहा था की पास जा उस गांड की खाई में धीरे धीरे उंगली चलाऊं.

और गांड की भूरे रंग की छेद को अपनी उंगली से छेड़ूँ और देखूं की कैसे पाक-पकती है. तभी मा पेशाब कर के उठ खड़ी हुई और मेरी तरफ घूम गई.

उसने अभी तक साड़ी को अपनी जांघों तक उठा रखा था. मेरी ओर देख कर मुस्कुराते हुए उसने अपने साड़ी को छोड़ दिया और नीचे गिरने दिया,

फिर एक हाथ को अपनी चूत पर साड़ी के ऊपर से ले जा के रगड़ने लगी जैसे की पेशाब पोछ रही हो और बोली “चल तू भी पेशाब कर ले . खडा खडा मुँह क्या टाक रहा है”.

मैं जो की अभी तक इस शानदार नज़ारे में खोया हुआ था थोडा सा चौंक गया पर फिर और हकलाते हुए बोला “हा हा अभी करता हूँ …  Desi Indian sex kahani Maa Beta Chudai part 8

यह कहानी आप HotSexyStories.in में पढ़ रहें हैं।  

मैंने सोचा पहले तुम कर लो इसलिए रुका था”. फिर मैंने अपने पाजामे के नाड़े को खोला और सीधा खड़े खड़े ही मूतने की कोशिश करने लगा. मेरा लंड तो फिर से खड़ा हो चुका था और खड़े लंड से पेशाब ही नहीं निकाल रहा था. मैने अपनी गांड तक का ज़ोर लगा दिया पेशाब करने के चक्कर में.

माँ वही बगल में खडी हो कर मुझे देखे जा रही थी.

मेरे खड़े लंड को देख कर वो हसते हुए बोली “चल जल्दी से कर ले पेशाब, देर हो रही है घर भी जाना है” मैं क्या बोलता पेशाब तो निकल नहीं रहा था.

तभी माँ ने आगे बढ़ कर मेरे लंड को अपने हाथो में पकड़ लिया और बोली “फिर से खाद कर लिया, अब पेशाब कैसे उतरेगा’ ?

कह कर लंड को हल्के हल्के सहलाने लगी, अब तो लंड और टाइट हो गया पर मेरे ज़ोर लगाने पर पेशाब की एक आध बूंदे नीचे गिर गई,

मैंने माँ से कहा “अरे तुम छोड़ो ना इसको, तुमहरे पकड़ने से तो ये और खड़ा हो जाएगा, छोडो ”

और माँ का हाथ अपने लंड पर से झटकने की कोशिश करने लगा, इस पर माँ ने हँसते हुए कहा “मैं तो छोड़ देती हू पर पहले ये तो बता की खडा क्यों किया था, अभी दो मिनिट पहले ही तो तेरा पानी निकाला था मैंने, और तूने फिर से खडा कर लिया, कमाल का लड़का है तू तो”. मैं कुछ नहीं बोला, अब लंड थोड़ा ढीला पड़ गया था और मैंने पेशाब कर लिया.

मूतने के बाद जल्दी से पाजामे के नाड़े को बाँध कर मैं माँ के साथ झाड़ियों के पीछे से निकल आया, मा के चेहरे पर अब भी मंद मंद मुस्कान आ रही थी.

मैं जल्दी जल्दी चलते हुए आगे बढ़ा और कपडे के गट्ठर को उठा कर अपने माथे पर रख लिया, मा ने भी एक गट्ठर को उठा लिया और अब हम दोनो मां बेटे जल्दी जल्दी गाँव के पगडंडी वाले रास्ते पर चलने लगे.  Desi Indian sex kahani Maa Beta Chudai part 8

आगे की कहानी अगले भाग में पढ़े

Leave a Reply

%d bloggers like this: