कड़ाके की सर्दी में मैडम ने मुँह में लिया-4 (Kadake Ki Shardi Me Madam Ne…)

Kadake Ki Shardi Me Madam Ne Muh Me LIya-4

sexy woman

मैं धकाधक मैडम को चोदे जा रहा था।थोड़ी देर बाद मैडम पसीने में भीग गई और मैडम की मशीन ने गरमा गर्म लावा उड़ेल दिया।मेरा लन्ड पूरा मैडम के गरमा गर्म रस में भीग गया। अब हर एक धक्के के साथ फ्फच्चें फ्फाच्छ फ्फचक फ्फ्फ फ्फव्च की आवाज़ गूंजने लगी।मैडम मेरे लन्ड से चुदकर पानी पानी हो चुकी थी।कड़ाके की सर्दी में भी मैडम के जिस्म से पसीना बहने लगा था।

मैं मैडम को अभी भी दे दना दन चोदे जा रहा था। अब मैंने मैडम को पूरी तरह मेरी बाहों में जकड़ लिया और मैडम ने टांगो और हाथो के घेरे में मुझे फंसा लिया।

मैडम– ओह रोहित,आज तो तूने तेरी मैडम की जान ही निकाल दी।

मैं– मैडम मै क्या करू। अब लंड ही इतना बड़ा है।

मैडम– तभी तो मुझे तुझसे चुदाने में मज़ा आ रहा है।आह आह आह आह ओह बस चोदता रहे।

अब कुछ देर तक मै मैडम को ऐसे ही चोदता रहा। अब मेरा पंप भी पानी छोड़ने वाला था। अब तक मैडम की चूत भोसड़ा बन चुकी थी। अब दो चार धक्कों के बाद मेरे पंप ने मेडम की मशीन में गरमा गर्म लावा भर दिया। अब मैं पसीने पसीने होकर मैडम के जिस्म से लिपट गया।

मैडम चूत में लंड ठुकवा कर बेहाल हो चुकी थी। अब मैं कुछ देर बाद मैडम के कातिल जिस्म पर से उठा और फिर से मैडम के जिस्म को रगड़ने लग गया। थोड़ी ही देर में मैंने मैडम को सर्दी में जिस्म की गर्मी दे दी। अब मैंने मैडम से लंड चूसने के लिए कहा।

अब मैं बेंच पर लेट गया और मैडम मेरे ऊपर चढ गई। अब मैडम मेरी चेस्ट को चूमने लगी।मुझे अजीब सी सुरसुरी होने लगी।मैडम भूखी शेरनी की तरह मेरी चेस्ट को चूमे जा रही थी।मैडम के काले घने लंबे बाल मेरी चेस्ट पर फ़ैल रहे थे।मैडम बार बार बालो को संवार रही थी। कुछ ही देर में मेडम ने मेरी चेस्ट को किस करके थूक से गीली कर दिया। अब मैडम मेरे होंठो पर टूट पड़ी। अब फिर से पूरे हॉल में पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ पुच्छ की आवाज़ गूंजने लगी। मैं किस करता हुआ मैडम की चिकनी नंगी पीठ को सहला रहा था।बीच बीच में इनकी गांड़ भी मसल रहा था।इधर मेरा लन्ड मैडम की चूत में घुसने की कोशिश कर रहा था। मैडम ने बहुत देर तक मुझे किस किया। अब मैडम नीचे आ गई और मेरे लन्ड को पकड़ लिया।

यह कहानी आप HotSexyStories.in में पढ़ रहें हैं।

मैडम– कितनी अजीब बात है जिस बच्चे को कभी मैंने छोटा सा देखा था आज मै उसी बच्चे का इतना बड़ा लंड पकड़े हुए हूं।

मैं– मैडम टाइम के अनुसार चीजे बदलती है।

मैडम–हां मेरे राजा।आज तो तेरे लंड का पूरा रस निचोड़ डालूंगी।

मैं कुछ कहता उससे पहले ही मैडम मेरे लन्ड को ज़ोर ज़ोर मसलने लग गई।मुझे दर्द होने लगा।

मैं– धीरे धीरे मसलों मेरी रानी। हथियार लोहे का बना हुआ नहीं है।

मैडम– चल छोड़, मसलने दे मुझे। तभी तो पूरा मज़ा आयेगा।

मैडम ज़ोर ज़ोर से मेरे लन्ड को मसलने लगी।फिर कुछ देर बाद उन्होंने मेरी टांगो को फैला दिया और ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करती हुई लंड को चूसने लगी।वो बुरी तरह से मेरे लन्ड पर टूट पड़ी थी। मैं टांगो को हवा में लहरा कर मैडम के बालो को सहलाने लगा।

मैं– आह आह आह आह ऊंह ओह आह और ज़ोर ज़ोर से चूसो मैडम। आह आह ओह आह।

मैडम जल्दी जल्दी लंड को चूस रही थी। मैडम को लंड चूसने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था। कुछ ही देर में उन्होने मेरे लन्ड को निचोड़ डाला। अब मैंने मैडम के कंधो पर मेरी दोनो टांगे रख दी।मैडम अभी भी बिना रुके मेरे लन्ड को चूसे जा रही थी।

मैं– ओह ओह आह आह आह ओह मैडम,आप बहुत अच्छे से लंड चूसती हो।आह आह ओह आह।

कुछ देर बाद मैडम ने मेरी टांगो को फोल्ड कर दिया। अब मैडम ने चूत में लंड फंसाया और मेरी गर्दन को बाहों में कस कर मुझे किस करने लगी।मैंने भी मैडम को ज़ोर से बाहों में कस लिया।उनके बड़े बड़े बूब्स मेरी चेस्ट से टकरा रहे थे।मैडम की ये हरकत मुझे अलग ही मजा दे रही थी। अब थोड़ी देर किस करने के बाद मैडम गांड उछालती हुई लंड को चूत में लेने लगी।

मैडम– ओह आह आह ओह रोहित,आज तो चुदाने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा है।आह आह आह ओह।

मैं– ओह मैडम आप तो बहुत ज्यादा चुदक्कड़ हो। मैं तो आपको सीधी साधी समझ रहा था।

मैडम– ओह आह ऊंह ओह अब सबके सामने थोड़े दिखाना पड़ता है कि मै इतनी बड़ी खिलाड़ी हूं।

मैं– ओह मैडम। आप तो पक्की खिलाड़ी निकली।

कुछ देर बाद मैडम 69 पोजिशन में आ गई। अब मैडम ने टांगे फसार कर चूत मेरे मुंह पर रख दी और खुद मेरा लन्ड चूसने लग गई।मैडम गपागप्प मेरे लन्ड को मुंह में भरने लगी। मैं भी मैडम की मशीन को अच्छी तरह से चाटने लगा।हम दोनों ही एक दूसरे की मशीनों को बुरी तरह से साफ कर रहे थे।

अब मैडम ने टांगे समेट ली और घुटनों के बल बैठकर कड़क सर्दी में मुझे गर्मी का अहसास दिलाने लगी। अब मैंने भी मेरी टांगे समेट ली।इधर मै भी मैडम की मशीन की अच्छे से नुमाइश कर रहा था।

मैडम– ऊंह मज़ा आ गया आज तो, इतने दिनों बाद आज जवान लौड़ा चूसने को मिला है। ऊंह आह ओह।

मैडम की जानदार बल्लेबाजी के आगे अब मेरी हिम्मत जवाब देने लगी थी।कुछ ही पलों में मेरी मशीन ने मैडम के मुंह को गरमा गरम लावा से भर दिया।मैडम ने सबाड़ सबाड कर पूरा लावा चूस डाला। मैं पसीने पसीने हो चुका था।मैडम फिर से मेरे लन्ड को चूसने लगी।कुछ देर बाद मेरा लन्ड फिर से खड़ा होने लगा।

अब मैडम की बारी थी। अब मैं बेंच पर से खड़ा हो गया और झट से मैडम को ठंडे ठंडे फर्श पर लेटा दिया।मैडम ना नू करने लगी।तभी मैंने फटाफट मैडम के भोसड़े के मुहाने पर लंड टिकाया और उनकी टांगो को हवा में उड़ाकर ज़ोर ज़ोर से लंड पेलने लगा। कुछ ही पलों में मैंने फिर से मैडम की चीखे निकाल दी।मेरा लन्ड घापा घप मैडम की मशीन की अच्छी तरह से घिसाई कर रहा था।

मैडम– आह आह ओह ओह ओह आह आह आह आह ओह आह मर गई।आह आह आह धीरे धीरे करो ना मेरे राजा।आह आह आह ओह।

आप हमारे official Telegram Channel चैनल से जुड़े …. 

अब मैं मैडम की बात कहां मानने वाला था। मैं उन्हें ज़ोरदार बल्लेबाजी करते हुए चोद रहा था।मैडम बस आह आह आह ओह करती हुई चुदाती जा रही थी। अब मैडम मेरे लन्ड का कहर कहां तक सहन करती।थक हारकर मैडम ने भोसड़े में पानी छोड़ दिया। अब फेक्च फ्फेस खाच्च खच् की आवाज़ों के साथ ज़बरदस्त चुदाई होने लगी।मैडम फिर भी बेहाल हो चुकी थी। मैं उन्हें अभी भी चोदे जा रहा था।

मैं– आह आह ओह आह आह आज तो मैडम मज़ा ही मजा मिल रहा है।आह ओह आह।

मैं बहुत देर तक मैडम को ऐसे ही चोदता रहा।

अब मैंने मैडम को फर्श से उठाकर चेयर पर बैठा दिया। अब मै चेयर पर बैठकर मैडम के भोसड़े को चोदने लगा।मैडम बुरी तरह से निढाल हो चुकी थी। मैं गांड़ हिला हिलाकर मैडम को पेले जा रहा था।

मैडम– बस कर रोहित, मेरी चूत भोसड़ा बन चुकी है।

मैं– अभी तो आपके भोसड़े में लावा भरना है।

मैडम– आह आह आह ऊंह आज तो तूने तेरी मैडम की जान ही निकाल दी है।आह ओह ऊंह ओह रोहित।

मैं मैडम को बहुत देर तक बजाता रहा। अब तक मैडम की पूरी सर्दी भाग चुकी थी। अब मैडम की गांड की बारी थी।

अब मैंने महिमा मैडम को चेयर पर से उठाया और उन्हें बेंच पकड़कर घोड़ी बनने के कहा तो मैडम कहने लगी– यार पीछे उसमे मत डाल।बहुत दर्द होगा।

मैं– आप तो पहले ही गांड़ मरवा रखी है फिर इतनी क्यो घबरा रही हो? वैसे मैडम आपकी गांड़ किसने मारी है?

मैडम– तू तो आम खा ले चुपचाप। गुठलियां मत गीन।

मैं– तो फिर जल्दी से घोड़ी बन जाओ

अब महिमा मैडम बिना कोई देर कोई चुपचाप बेंच को पकड़कर घोड़ी बन गई। अब मैंने मैडम की गांड को पकड़ा और उनकी गांड़ के सुराख में लंड रख दिया।फिर एकसाथ पूरा ज़ोर लगाकर लंड मैडम की गांड में जा ठोका।मेरा आधा लंड मैडम की गांड में जा घुसा।महिमा मैडम दर्द से तिलमिला उठी।इतनी बड़ी खिलाड़ी होते हुए भी मैडम की गांड फट गई।

मैडम– आईईईई मर गई।आईईईई आईईईई।

तभी मैंने लंड बाहर निकाला और एकसाथ चार पांच शॉट लगा दिए। इन धुंआधार शॉटो के साथ मेरा पूरा लन्ड मैडम की गांड में जा बैठा।मैडम बुरी तरह दर्द से करहाने लगी।

मैडम– आईईईई आईईईई आईईईई यूईईईईई मर गई। आईईईई रोहित। नहीं झेला जा रहा है।बाहर निकाल ले ना।

मैं दे दना दन मैडम की गांड मारने लगा।मैडम दर्द से बिलखते हुए गांड मरवा रही थी। मैं पूरी शिद्दत से मैडम की गांड में लंड पेल रहा था।

मैडम– आह आह ऊंह आईईईई आईईईई आह आह आह।

मैं– ऊंह आह आह आह मैडम आपकी गांड़ तो बहुत ज्यादा टाइट है।लगता है कई दिनों से आपने इसकी सर्विस नहीं करवाई है।

मेरा लंड मैडम की गांड अच्छी तरह से ठुकाई कर रहा था।मैडम का तो दर्द से बुरा हाल हो रहा था।

थोड़ी देर तक मैडम को बेंच के सहारे ठोकने के बाद मैंने अब मैडम को चेयर पर पेट के बल लेटा दिया।

कहानी जारी है………………………

Leave a Reply

%d bloggers like this: