कड़ाके की सर्दी में मैडम ने मुँह में लिया-5 (Kadake Ki Shardi Me Madam Ne…)

Kadake Ki Shardi Me Madam Ne Muh Me LIya-5

sardi ki kahani

अब मैडम दोनों हाथ फर्श पर टिकाकर घोड़ी बन गई। अब मैंने फिर से मैडम की गांड में लंड डाल दिया और उन्हें अच्छी तरह से चोदने लगा। अब तक मैडम की गांड ठूक ठुका कर गोदाम बन चुकी थी।

मैडम– आईईईई आईईईई ओह ओह ओह आह आह मेरी जान निकल रही है रोहित।

मैं– कोई जान नहीं निकल रही है मेरी रानी।गांड़ मरवाने का मज़ा लो।

मैडम– तेरा लंड मज़ा नहीं सजा दे रहा है। आएईईईईई आईईईई आह आह ओह।

मैं– कोई बात नहीं थोड़ी देर आपको मज़ा ही मज़ा आयेगा।

अब मैं और ज़ोर ज़ोर से मैडम की गांड में लंड पलाने लगा। अब तो चेयर भी चू चू चू करने लग गई थी। अब मैडम की हिम्मत जवाब दे गई और उनकी मशीन ने गरमा गरम लावा फर्श पर बहा दिया। अब मैडम को धीरे धीरे गांड़ मरवाने में मज़ा आने लगा। अब उनकी दर्द भारी सिसकारियां मादक चीखो में बदल चुकी थी।

मैडम– आह आह आह ऊंह आह आह ओह।

मैं– अब बोलो मैडम, कितना मज़ा आ रहा है।

मैडम– मार ले आज तेरी मैडम की। आह आह आह ओह आह।

मैं बहुत देर तक मैडम की गांड मारता रहा। मैं अब तक पसीने में पूरा लथपथ हो चुका था।तभी मेरे लंड ने मैडम की गांड में गरमा गरम लावा भर दिया। अब मैं मैडम के जिस्म के ऊपर ही ढेर हो गया।

मैडम– जान ही निकाल दी आज तूने तो।

फिर होश में आकर मै खड़ा हुआ। अब मैडम भी खड़ी हो गई। अब मैं चेयर पर बैठ गया।तभी मैडम ने मेरे लटके हुए को पकड़ लिया और मसलने लगी।धीरे धीरे मेरा लन्ड वापस पोजिशन में आने लगा। अब महिमा मैडम लंड को फिर से मुंह में लेकर चूसने लगी।महिमा मैडम बड़े प्यार से मेरे लन्ड को चूस रही थी।

अब कुछ देर बाद मैंने महिमा मैडम को चेयर पर ही मेरी गोद में बैठा लिया और लंड उनकी चूत में जा डाला। अब मैडम ने मेरे कंधो को पकड़ लिया और मकमे मैडम की गांड को। अब मैं लंड हिला हिलाकर मैडम को चोदने लगा।हर एक धक्के के साथ मैडम के बूब्स ज़ोर ज़ोर से हिल रहे थे।

मैडम– ओह आह आह आह ऊंह रोहित,मज़ा आ रहा है।आह आह आह ऊंह।आज मुझे जिंदगी में पहली बार इतना मज़ा मिला है।चोद और चोद।आह आह आह।

मैं– मैडम मुझसे चुदवाओगी तो ऐसे ही मज़ा मिलेगा।आह आह आह लो और लो लंड।

मैडम– चोदो ना और ज़ोर ज़ोर से चोदो ना मेरे राजा।

मैं– चोद रहा हूं मेरी रानी।

यह कहानी आप HotSexyStories.in में पढ़ रहें हैं।

फिर कुछ देर तक मैने मैडम को चेयर पर ऐसे ही चोदा।अब हम दोनों चेयर पर से उतर गए। अब मैंने मैडम को वापस बोर्ड के सहारे खड़ा कर दिया और फिर से उनके बूब्स को अच्छी तरह से चूसने लगा।मुझे मैडम के बूब्स को चूसने में बहुत ज्यादा मज़ा आ रहा था।

मैडम– पूरा निचोड़ लें आज इन्हे।आह आह आह ओह आह ओह।

मैं– हां मेरी रानी।

फिर मैंने मैडम के बूब्स को रगड़ कर चूस डाला। फिर मैंने मैडम की चूत में उंगलियां घुसा डाली और ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करने लगा।मैडम की फिर से गांड़ फटकर हाथ में आ गई।

मैडम– आईईईई आईईईई ओह ओह रोहित, आईईईई ओह आह आह।

अबकी बार मै पूरा ज़ोर लगाकर उंगलियां मैडम की चूत में पेल रहा था।

मैडम– आह आह आह मर गई।बस करो रोहित।आह आह आह ओह।

मैं– करने दो ना मैडम।मज़ा आ रहा है।आह आह आह आह ओह आह।

मैडम– बहुत दर्द हो रहा है।आह आह आह आह ओह मत करो रोहित।

लेकिन मैं नहीं माना और मैडम की चूत का मज़ा लेता रहा। थोड़ी देर बाद मैं गैलरी में खड़ा हो गया और मैडम नीचे बैठ गई। अब मैंने मैडम के मुंह में लंड रखा और फिर मैडम के सिर को पकड़कर लंड मैडम के मुंह में डालने लगा।मुझे मैडम के मुंह को चोदने में बहुत ज्यादा मज़ा आने लगा।धीरे धीरे मै पूरे लंड को मैडम के मुंह में घुसने की कोशिश करने लगा।लेकिन पूरा लंड मुंह में नहीं जा रहा था।मैडम भी फक्क फाक्क फ्फक्कक फ्फक्क़ लंड को मुंह में ले रही थी।मैडम के घने बाल बार बार बीच में अड़ंगा डाल रहे थे।

मैं– आह आह आह ऊंह आह आह ओह आह मज़ा आ गया मैडम।आह आह आह ऊंह।

तभी मैंने ज़ोर का धक्का लगाकर पूरा लंड मैडम के मुंह में पेल दिया।मैडम की जान हलक में आ गई।कुछ ही देर में उनकी आंखो से आंसू आ गए।फिर मैंने लंड बाहर निकाला और फिर से पूरा का पूरा लन्ड मैडम के मुंह में घुसा डाला। अब तो मैडम रोने ही लग गई।लेकिन फिर भी मै मैडम के मुंह को चोदता रहा। अब तक मैडम की हालत खराब हो चुकी थी।फिर कुछ देर बाद मैंने मैडम को छोड़ा।

मैडम मुझसे नाराज़ हो चुकी थी। अब मैं नीचे फर्श पर बैठ गया और मैडम की चूत में लंड सेट करके उन्हें भी मेरी गोद में बैठा लिया।मैडम का मुंह लाल पीला हो रहा था।फिर मैंने सोरी कहा और मैडम के आंसू पोंछे। अब मैं मैडम के होंठो को चूसने लग गया।फिर धीरे धीरे मेडम भी मेरे होंठो को चूसने लग गई। अब मैडम की पूरी नाराज़गी दूर हो चुकी थी।फिर होंठो को चूसने के बाद मैंने मैडम के बूब्स को फिर से चूस डाला।

अब मैंने मैडम को वहीं फर्श पर लेटा दिया और फिर वापस उनके भोसड़े में लंड सेट करके मैडम को चोदने लगा।मैडम मस्त होकर भोसड़ा चुदवाने लगी।

मैडम– आह आह उमाह आह ऊंह।बस इसी में तो डलवाने में मज़ा आता है।आह आह ओह आह।चोदता रहे।

मैं– आह आह ओह ऊंह आह मुझे भी इसमें डालने में बहुत ज्यादा मज़ा आता है मेरी रानी।आह आह ओह आह।

फिर कुछ ही देर में मेडम झड़ गई। अब मैं भी अंतिम पड़ाव पर पहुंचने वाला था।तभी मैंने मेरी पोजिशन बदल ली और मैडम के मुंह में लंड डालने लग गया।बस फिर क्या था थोड़ी ही देर में मेरे लंड महाराज ने कड़क सर्दी में मैडम को गर्म गरम लावा पिला दिया। मैं पसीने पसीने हो चुका था।कुछ देर तक मै मैडम के जिस्म पर ही पड़ा रहा।फिर अपने आप को सम्हाला और मैडम के जिस्म पर से हट गया।बहुत देर तक चुदाई करने के कारण हम दोनों बुरी तरह से थक चुके थे।ऊपर से भयंकर सर्दी भी हमारे ऊपर कहर बनकर टूट रही थी। मैडम सर्दी से धक धक कांपने लगी।

आप हमारे official Telegram Channel चैनल से जुड़े …. 

मैडम की पैंटी को बेंच पोछने में गीली हो चुकी थी इसलिए मैंने उन्हें सीधे उनका सलवार ही पहना दिया।फिर तुरंत ब्रा और कुर्ता पहनाकर जैकेट पहना दिया। अब मैंने भी तुरंत मेरे सारे कपड़े पहन लिए। अब मैडम ने गीली पैंटी को बेग में रख लिया और मैंने मेरी गीली अंडरवियर को ऑफिस में छुपा दिया।

मैडम– तुझसे चुदावाकर आज मुझे बहुत ज्यादा मज़ा आया है

मैं– मुझे भी मैडम आपको चोदकर बहुत ज्यादा मज़ा मिला है।

मैडम– मुझे तो अभी भी यकीन नहीं हो रहा है कि जिस लड़के को कभी मैने छोटा सा देखा था आज उसी ने मुझे निचोड़ निचोड़ कर चोदा ।

मैं– आप हो ही इतनी शानदार माल।आपको देख देखकर मेरा लन्ड फुफकार मारने लग गया था। अब जाकर मेरे लन्ड को चैन मिला।

मैडम– अच्छा।

मैं– हां मैडम। बस देखने वाले की नजर पैनी होनी चाहिए।मैंने आपको पैनी नजर से देख कर ही आपके मादक जिस्म को भांप लिया था।

मैडम– ओह। बड़ा हरामी निकला तू। कोई अपनी ही मैडम को कैसे चोद लेता है।ये मैंने आज अच्छी तरह से जान लिया।

मैं– अच्छा तो फिर एकबार और लंड ठोकने दो ना मैडम।

मैडम– अब नहीं यार।बहुत थक गई हूं आज।अभी तो घर जाकर भी उनसे चुदवाना पड़ेगा।वो तो वो ही लंड पकड़कर बैठे हुए है।बोल रहे थे आज स्कूल जाकर क्या करोगी।फिर आते आते उन्होने जल्दी वापस आने के लिए कहा था।

मैं– ओके तो कोई बात नहीं।वैसे सर्दी में लंड को चूत की बहुत ज्यादा ज़रूरत होती है।

मैडम– हां,लंड की जरूरत चूत को भी होती है। तू क्या सच में फिर से डालना चाहता है क्या?

मैं– नहीं ,नहीं। मैं तो ऐसे ही बोल रहा था।आप घर जाने में लेट हो जाओगी ।

मैडम– कोई बात नहीं।थोड़ी सी देर में ज्यादा लेट नहीं होऊंगी।अच्छा चल डाल ले।

मैं– नहीं रहने दो।

मैडम– अब डाल ले ना। मै कह रही हूं ना।

अब मैंने सोचा जब मैडम इतना कह ही रही है तो लंड डाल ही देता हूं।

अब मैंने मैडम को फिर से बेंच पर लेटाया और उनके सलवार को घुटनों तक उतार कर टांगो को फोल्ड कर दिया। अब मैंने भी पेंट घुटनो तक उतार दी और फटाफट मैडम के भोसड़े को चोदने लग गया।

मैडम– आह आह आह ऊंह आह ऊंह आह।ऊंह आह आह आह ऊंह।थोड़ा और ज़ोर से धक्का लगा।

मैं– ये लो मैडम।

फिर मैं पूरे जोश में आकर मैडम के भोसड़े में लंड पेलने लगा।

मैडम– आह आह आह ऊंह आह ओह मज़ा आ रहा है मेरे राजा।आह आह आह ओह ऊंह।और चोद तेरी मैडम को।

मैं– लेे और चुद मेरी रानी।

अब हम वापस चुदाई के नशे में डूब गए।फिर दोनों झड़कर शांत हुए। अब हम फिर से पसीने पसीने हो चुके थे।

कुछ देर बाद हम दोनों उठे और खुद को ठीक कर लिया।

मैडम– ये बात अपने बीच में ही रहनी चाहिए।

मैं– आप चिंता मत करो मैडम। किसी को कुछ पता नहीं चलेगा।

मैडम– ठीक है। अब तू निकल।फिर थोड़ी देर बाद मैं भी निकलूंगी।

अब मैं मैडम को चोदकर घर आ गया।

आपको मेरी ये कहानी कैसी लगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: