कुँवारी लड़की की चुदाई – Kuwari Chut Ki Sealtod Chudai Ki Kahani

Kuwari Chut Ki Sealtod Chudai | उसने मुझसे कहा कि नहीं प्लीज तुम मेरे साथ ऐसा कुछ भी मत करो अब मुझे जाने दो, लेकिन में समझ गया कि अब यह बस ऐसे ही मुझे… Kuwari Chut Ki Sealtod Chudai Ki Kahani….

दोस्तों मेरी तरह ही हर जवान दिल की मन की इच्छा होती है कि काश मुझे कोई गोरी सुंदर, बड़े बड़े बूब्स वाली लड़की जिसकी कुँवारी चूत हो वो बस एक बार मिल जाए तो बस मज़ा ही आ जाए और उसकी चुदाई करके मन खुश हो जाए ठीक वैसी ही मेरी भी मन की इच्छा थी, लेकिन में हमेशा चुप ही रहता और में ज्यादा कुछ बोलता नहीं था, लेकिन पिछले दो सालो से में पहले से अब बहुत ज्यादा बदल गया था और फिर जब में अपने मामा के घर पर कुछ दिन रहने घूमने फिरने गया तब मेरे साथ कुछ ऐसी घटना घटी जिसको आज में आप सभी को सुनाना चाहता हूँ.  Kuwari Chut Ki Sealtod Chudai

दोस्तों मेरे अंकल कानपुर में रहते है, इसलिए में उनके घर पर अपनी कुछ दिनों की छुट्टियाँ बिताने चला गया, वहीं मेरे अंकल के पड़ोस में एक बहुत ही सुंदर गोरी मस्त सेक्सी लड़की रहती थी, जिसका नाम बबिता था और उस समय उसकी उम्र कम से कम 20 साल की रही होगी. उसके फिगर का आकार उस समय 30-26-28 रहा होगा.

दोस्तों उससे पहले भी जब में कभी भी अपने मामा के यहाँ पर जाता था तो में उस लड़की की उस चढ़ती मस्त जवानी को देखकर हमेशा बहुत चकित होकर सोच में पड़ जाता था और में मन ही मन में सोचता रहता कि काश मुझे एक बार उसकी कुंवारी चूत की सेवा करने का मौका मिल जाए. में उसकी बहुत मन लगाकर सेवा करूंगा और में हमेशा ही उसकी चुदाई के सपने देखा करता था. मुझे उसको एक बार अपना जरूर बनाना था.  Kuwari Chut Ki Sealtod Chudai

दोस्तों वैसे तो मेरा या उसका मेरे मामा के घर पर आना जाना बहुत कम ही था, लेकिन फिर भी जब वो मुझे मिलती या मेरी तरफ देखती तब मुझे उसकी आंखों में एक अजीब सी चमक नजर आती जिसको देखकर मुझे हमेशा ऐसा लगता था कि जैसे उसके मन में भी मेरे लिए कुछ ऐसा ही चल रहा है और जैसा में उसके साथ करना चाहता हूँ, लेकिन शायद उसकी मुझे यह अपने मन की बात कहने की हिम्मत नहीं हो रही है, इसलिए वो बस मुझे देखकर मेरी तरफ मुस्कुराने लगती और में उसकी मुस्कुराहट को देखकर उसकी तरफ झुका चला जाता.

मेरे मन में उसको अपना बनाने के लिए और भी इच्छा होने लगती. अब वो जब भी मुझसे मिलती या में उसको देखता हम दोनों बहुत देर तक एक ही जगह पर चिपक जाते और मेरा दिन उसको देखे बिना गुजरता ही नहीं था. मेरी उसको देखने की इच्छा हमेशा मेरे मन में रहती.

यह कहानी आप  HotSexyStories.in में पढ़ रहें हैं।

फिर एक दिन की बात है तब में घर के दरवाजे पर खड़ा हुआ था और उस समय वो लड़की बबिता भी अपने घर के दरवाजे पर खड़ी हुई थी और वो भी मुझे कुछ देर देखती रही.

फिर उसके बाद वो मुझसे कुछ इशारो में बोल रही थी वो बार बार मुझे देखकर हंस भी रही थी, तो में तुरंत उसका वो इशारा समझ गया कि वो अब मुझे अपनी तरफ से लाईन दे रही है जिसकी वजह से में बड़ा खुश था और अब मैंने तभी इशारे से उससे पूछा कि किया हुआ? तब उसने भी अपनी तरफ से मुझे इशारे में जवाब देकर कहा कि कुछ नहीं और फिर हम दोनों बहुत देर तक वहीं दरवाजे पर खड़े खड़े एक दूसरे की तरफ देखते रहे.

तभी अचानक से उसने मुझे एक इशारा किया जिसको देखकर में एकदम हैरान हो गया और उसने अपने उस इशारे से मुझे ऊपर छत पर आने के लिए कहा और फिर मैंने मन ही मन में सोचा कि आज तो मुन्ना तेरी ज़िंदगी बन गई. में बहुत खुश हुआ और मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था. फिर में जल्दी से ऊपर छत पर चला गया और मैंने देखा कि वहां पर वो मुझसे पहले ही पहुंच चुकी थी. में उसको देखकर उसकी तरफ मुस्कुरा दिया और वो भी मेरी तरफ हंस पड़ी. दोस्तों पहले तो में उससे बस इशारो में ही बातें कर रहा था, क्योंकि उस समय हम दोनों अपनी अपनी छत पर खड़े हुए थे, लेकिन जब मुझे लगा कि हमारे आसपास कोई भी नहीं है तो में सही मौका देखकर उसके घर की दीवार कूदकर उसके घर की छत पर चला गया.

अब मैंने देखा कि वो मेरे उसकी छत पर इस तरह से कूदकर आ जाने की वजह से कुछ घबरा रही थी, लेकिन में बहुत उतावला हो चुका था इसलिए मुझे किसी से कोई भी मतलब नहीं था. फिर कुछ देर बाद उससे मुझे पता चला कि आज उसके घर में कोई भी नहीं था बस उसकी एक दादी थी जो कभी भी ऊपर छत पर नहीं आती और वो हमेशा नीचे ही रहती है. दोस्तों में इस बात को सोचकर बड़ा खुश था कि आज बबिता के घर में कोई नहीं था और उनकी छत पर ऊपर बस एक रूम बना हुआ था, जिसमें उसके भाई और भाभी रहती है, लेकिन वो कमरा भी आज खाली पड़ा हुआ था.


Next part-2

अब में उससे कुछ देर इधर उधर की बातें करता रहा और हम दोनों को बातें करते करते शाम से रात भी हो गई मुझे इस बात का पता ही नहीं चला और वो सब कुछ इतना जल्दी जल्दी हो रहा था कि मुझे भी कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि में क्या करूं और क्या ना करूं? क्योंकि वो मुझे एक ऐसा मौका मिला था कि आज में उसकी कुंवारी चूत के बहुत अच्छी तरह से मज़े भी ले सकता था.

में वो बातें सोचकर बस बहुत बेचैन था कि जल्द से जल्द मुझे उसकी चूत मिल जाए. दोस्तों पहले तो में उसके साथ बहुत ही शराफ़त भरी बातें हंसी मजाक करने लगा फिर मैंने उसको ध्यान से देखा कि वो बार बार अपनी आंखों को इस तरह से बंद कर रही थी जैसे कि उसको किसी चीज की तड़प हो रही थी. दोस्तों शायद वो तड़प उसको मेरे लंड की हो रही थी.

मैंने उसका इशारा समझकर अब उससे कुछ अलग किस्म की बातें मतलब कि सेक्स से जुड़ी हुई बातें करना शुरू कर दिया था और वो भी बड़े मज़े से मेरी बातें सुनने लगी थी. जिनको सुनकर वो बड़ी खुश थी तभी में तुरंत समझ गया कि आज तो मेरे मन की सभी इच्छाए पूरी हो जाएगी और यह बात मन ही मन सोचकर मेरी ख़ुशी का अब कोई ठिकाना ना रहा और बस कुछ देर बातें करने के बाद वो भी अब बिल्कुल खामोश हो गई और में भी चुपचाप उसको देखने लगा था.

मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ? तब भी वो खामोश ही रही और अब में उसके पास गया और मैंने अब उससे पूछा कि क्या हुआ? लेकिन वो फिर भी कुछ नहीं बोली तब मेरी हिम्मत पहले से ज्यादा बढ़ गई और मैंने उसका चेहरा अपने दोनों हाथों से पकड़ा और तुरंत में उसके होंठो को चूमने लगा जैसा में कभी किसी फिल्म में लड़का लड़की को चूमते हुए देखा करता था और में भी उसके साथ ठीक वैसे ही किस करता रहा और वो तो अब भी बस चुप ही थी और वो कुछ भी नहीं कर रही थी, लेकिन मुझे उसकी उस खामोशी से ही पता चल गया था कि उसकी तरफ से मेरे साथ आज पहली चुदाई के लिए हाँ है और में फिर उसके बूब्स को दबाने लगा, जिसकी वजह से उसके मुहं से अब अह्ह्ह्हह उफ्फ्फ्फ़ ह्म्‍म्म्ममम ऑश प्लीज आराम से करो बार बार निकल रही थी, लेकिन में कहाँ रुकने वाला था?

उसी समय में उसको उसके भाई के रूम में ले गया और वहां पर जाकर मैंने सबसे पहले उसके कपड़े एक एक करके जल्दी से उतारने शुरू किए तब पहली बार इतना पास से उसके बूब्स को देखकर तो मेरे होश ही गुम हो गए, क्योंकि वो बाहर से कुछ और अंदर से कुछ और थी में तो बस उन्हे देखकर ही पागल हो गया और अब में उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने मसलने लगा था.

वो दर्द और मज़े की वजह से लगातार सिसकियाँ भरती रही और फिर मैंने कुछ देर बाद अपने भी कपड़े उतारने शुरू किए, लेकिन तभी उसने मुझसे कहा कि नहीं प्लीज तुम मेरे साथ ऐसा कुछ भी मत करो अब मुझे जाने दो, लेकिन में समझ गया कि अब यह बस ऐसे ही मुझे अपने नखरे दिखा रही है, लेकिन में अब उसके कहने पर कहाँ रुकता.

यह कहानी आप HotSexyStories.in  में पढ़ रहें हैं।

जैसे ही वो दोबारा मुझसे कुछ शब्द बोलती तो में उसके होंठो को चूमने लगता. फिर वो भी कुछ देर बाद जोश में आ जाती तो फिर से में अपना काम शुरू कर देता और फिर जब मैंने अपने कपड़े पूरी तरह उतार दिए वो और अब हम दोनों एक दूसरे के सामने बिल्कुल नंगे थे.  Kuwari Chut Ki Sealtod Chudai

फिर उसने मेरे लंड को देखा और उसको देखकर वो बड़ी गहरी सोच में पड़ गई और अब वो मुझसे कहने लगी कि ऊहह दैया इतना बड़ा लंड है आपका में तो मर ही जाउंगी इससे मुझे बहुत दर्द होगा. अब मैंने उसको समझाते हुए उससे कहा कि पहले पहले तुम्हे थोड़ा सा दर्द जरुर होगा, लेकिन फिर उसके बाद में तुम्हे भी मेरे साथ मेरी तरह बड़ा मज़ा आने लगेगा.

दोस्तों क्योंकि मेरा लिंग लम्बाई में पांच इंच का है इसलिए वो उसकी मोटाई को देखकर डर गई थी, क्योंकि यह उसकी पहली चुदाई थी जो मेरे मोटे लंड होने वाली थी. उसके बारे में सोचकर शायद उसको पसीना भी अब आने लगा था.

अब में उसकी चूत को पहले तो अपने हाथ से सहलाने लगा, जिसकी वजह से वो धीरे धीरे बहुत गरम होने लगी थी और फिर कुछ देर बाद में अपनी उंगली को उसकी चूत में करने लगा था. तब मुझे पता चला कि उसकी चूत के अंदर लंड जाने का रास्ता बहुत छोटा है. अब मेरे उसकी चूत में ऊँगली करने की वजह से वो बहुत गरम हो जाए यह बात सोचकर में अपने काम में लगा रहा और उसकी चूत मेरा लंड अपने आप मुझसे मांगने लगे और मुझे उसकी चुदाई में वो मज़ा आए जो में उससे उम्मीद कर रहा था.  Kuwari Chut Ki Sealtod Chudai…

The End…

Leave a Reply

%d bloggers like this: