प्यासी औरत के साथ बारिश में रोमांस – Pyasi Aurat Ke Sath Barish Me Romance

Pyasi Aurat Ke Sath Barish Me Romance | वह अपने पैरों को चौड़ा करने लगी और मैं भी उसे तेज गति से धक्के देने लगा। उसके शरीर से करंट निकलने लगा था मेरे जोश… Barish ka sex story…

मेरा नाम धनंजय है मैं नोएडा का रहने वाला हूं। मेरे पिताजी स्कूल में अध्यापक हैं। मैं अभी कॉलेज की पढ़ाई ही कर रहा हूं। मेरे बड़े भैया राज नौकरी करते हैं। उनकी उम्र मुझसे लगभग 3 वर्ष बड़ी है। एक बार मेरे भैया मुझे कहने लगे कि क्या आज तुम मेरे साथ मूवी देखने चलोगे? मैंने उन्हें कहा भैया क्या बात है आज आप मुझ पर बड़े मेहरबान हो रहे हैं। वह कहने लगे दरअसल हमारे ऑफिस के लोगों ने मूवी देखने का प्लान बनाया था लेकिन हमारे एक दोस्त की तबीयत खराब हो गई इसलिए एक टिकट हमारे पास बच रही है और मैंने जब अपने दोस्तों से बात की तो वह सब कह रहे हैं कि तुम अपने भाई को ले आओ तो इसलिए मैंने तुमसे पूछा कि क्या तुम मेरे साथ चलोगे। मैंने भैया से कहा ठीक है मैं आपके साथ चलता हूं। Barish Me Romance Ki Kahani…

मैं उनके साथ जाने के लिए तैयार हो गया। मैंने भी अपनी नई टीशर्ट पहन ली वह टीशर्ट मैंने दो दिन पहले ही खरीदी थी और उस टीशर्ट को पहनने का मुझे मौका मिल गया था। उस टीशर्ट में मैं काफी अच्छा लग रहा था। मैंने जब अपने आप को शीशे में देखा तो मेरे भैया पीछे से खड़े होकर मुझे कहने लगे तुम इतनी देर से शीशे में क्या देख रहे हो, हमें चलना भी है। मैंने उन्हें कहा ठीक है चलिए फिर हम दोनों घर से निकल पड़े। उस दिन भैया की छुट्टी थी। उन्होंने पापा की कार ले ली पापा उन्हें कुछ भी नहीं कहते क्योंकि अब वह जॉब करने वाले हैं और उनकी उम्र भी अब शादी की हो चुकी है इसलिए पापा अब उन्हें कुछ भी नहीं कहते। मेरे भैया पहले से ही काफी समझदार हैं। वह मेरे पापा के बहुत चाहते भी हैं। हम दोनों जब मॉल में पहुंच गए तो हम उनके दोस्तों का इंतजार करने लगे वह लोग उस वक्त नहीं आए थे। मैंने भैया से कहा कि आपके कितने दोस्त आने वाले हैं? वह कहने लगे लगभग ऑफिस के सारे लोग आने वाले हैं। मैंने पूछा फिर भी कितने लोग होंगे? वह कहने लगे कि 10 लोग हैं। एक तो मेरा दोस्त आ नहीं रहा उसकी जगह तुम आ गए हो तो अब और लोग आने बाकी हैं। “Barish Wala Romantic Sex”

अब धीरे-धीरे करके सब आने लगे लेकिन जब मैंने प्रीति को देखा तो उससे नजर हटाने का मेरा मन ही नहीं कर रहा था मैं उसके बारे में जानना चाहता था लेकिन मैं किसी से पूछ नहीं सकता था क्योंकि मैं किसी को भी पहचानता नहीं था इसलिए मैंने उस दिन मूवी देखी और मैं घर लौट आया लेकिन प्रीति को देख कर मुझे उससे लगाव सा हो गया और मैं उसके बारे में जानने के लिए उत्सुक होने लगा। मैंने भी अपने भैया से एक दिन बातों बातों में पूछ लिया की उस दिन जो आपके दोस्त आए थे वह सब बहुत अच्छे थे और जब प्रीति की बात आई तो उन्होंने मुझे कहा उसके साथ तो बहुत ही गलत हुआ।

उसकी शादी को सिर्फ 6 महीने ही हुए थे उसके पति ने उससे डिवोर्स ले लिया और अब वह अलग रह रही है। मैंने भी दिल ही दिल में सोचा कि यह तो वाकई में उसके साथ गलत हुआ लेकिन मैं उससे बात करना चाहता था परंतु मेरे पास कोई ऐसा जरिया नहीं था जिससे मैं प्रीति के साथ बात कर पाऊँ और वह उम्र में मुझसे बड़ी भी थी इसलिए मुझे डर था कि कहीं वह मुझसे बात करने से इंकार ना कर दे इसलिए मैंने सोचा कि अब इस बात को भूल ही जाता हूं। एक दिन मैं सामान खरीदने के लिए अपने घर से निकला उस दिन मैं बाइक में ही था मैं जब घर से निकला तो उस वक्त मौसम खराब होने लगा मुझे लगा कि अब तो मेरा घर जाना भी मुश्किल है क्योंकि मैं काफी आगे आ चुका था। मैंने सोचा चलो जल्दी से शॉपिंग कर लेता हूं और उसके बाद ऑफिस निकलता हूं परंतु बारिश इतनी ज्यादा तेज हो गई कि मैं बाइक से उतरकर एक दुकान के बाहर खड़ा हो गया। बारिश उस दिन रुकने का नाम ही नहीं ले रही थी। वहां पर काफी भीड़ भी हो गई। मैंने जब आगे देखा तो मुझे ऐसा लगा कि शायद वह प्रीति है लेकिन मैंने सोचा कि यदि कोई और होगी तो इसीलिए मैंने उससे बात नहीं की। पर जब वह पीछे पलटी तो उसका चेहरा मुझे दिखाई दिया वह काफी भीग चुकी थी। मैंने उसे कहा आप कैसी हैं? वह कहने लगी क्या तुम राज के भाई हो? मैंने उसे कहा हां मैं राज का छोटा भाई हूं। “Barish Wala Romantic Sex”

वह मेरे साथ बात करने लगी। मेरे लिए तो जैसे वह बारिश काफी सुहानी थी। अब मेरी उसके साथ बात हो गई। जब बारिश रुकने लगी तो मैंने उसे कहा कि मैं आपको आपके घर छोड़ देता हूं। वह कहने लगी नहीं मैं चली जाऊंगी लेकिन मैंने उससे कहा मैं आपको छोड़ देता हूं। अभी आपको कुछ कन्वेंस भी नहीं मिलेगा। वह मेरे साथ आने को तैयार हो गई फिर वह मेरे पीछे बाइक में बैठ गई। जो वह मेरे पीछे बाइक में बैठी तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। उसने जैसे ही अपने हाथ को मेरे कंधे पर रखा तो मुझे बहुत खुशी मिलने लगी और मेरे दिल की धड़कन बढ़ने लगी। मैं भी उससे बीच-बीच में बात कर रहा था और वह भी मुझसे बात कर के अपने आप को बहुत कंफर्टेबल महसूस कर रही थी। मौसम भी काफी सुहाना हो चुका था जब प्रीति ने मेरे पैर पर अपने हाथ को रखा तो मेरा लंड खड़ा होने लगा मैं बड़ी तेजी से बाइक चलाने लगा। प्रीति कहने लगी तुम बड़ी तेजी से बाइक चलाते हो। मैंने उसे कहा नहीं ऐसी कोई बात नहीं है लेकिन उसका हाथ जब मेरे लंड पर पड़ा तो वह समझ गई कि मेरे अंदर उसे देखकर कुछ हालात पैदा होने लगे हैं।

“Barish Wala Romantic Sex”

यह कहानी आप  HotSexyStories.in में पढ़ रहें हैं।

मैं उसके घर पर पहुंच गया। वह मुझे कहने लगी तुम घर पर बैठ जाओ तुम काफी भीग चुके हो। मैंने सोचा जब यह बुला रही है तो मै चला ही जाता हूं मैं उसके साथ चला गया। उसने मुझे कहा तुम अपने कपडे सुखाने के लिए रख दो। मैंने अपने कपड़े सुखाने के लिए रख दिए मैं उसके रूम में ही बैठा हुआ था मेरे सामने प्रीति आ गई। जब वह मेरे सामने आई तो मुझसे चिपक कर बैठने लगी मुझे समझ नहीं आ रहा था मैं क्या करूं लेकिन जब उसने मेरी छाती पर हाथ रखा तो मुझे सब कुछ समझ आ गया। मेरे बदन का टेंपरेचर एकदम से हाई हो गया मैंने उसके बदन को दबाना शुरू किया और उसके नरम होंठो को मैंने चूसना शुरू कर दिया। जैसे ही उसके गुलाबी होंठ मेरे होठों से टकराते तो मेरे अंदर उतना ही जोश पैदा हो जाता। काफी देर तक मैं उसके होठों को चूसता रहा। मैंने उसके कपड़े उतार दिए मेरे अंदर बहुत ही ज्यादा जोश पैदा होने लगा।

मैं उसकी चूत को चाटने लगा उसकी चूत को चाटकर मुझे बहुत अच्छा महसूस होता। उसकी चूत से भी पानी उतनी ही तेजी से बाहर निकल रहा था उसके अंदर का जोश भी बढ़ने लगा। मैं अपने आपको ना रोक सका मैंने भी जल्दी से उसकी योनि में लंड घुसाते हुए अंदर की तरफ प्रवेश करवा दिया। जैसे ही मेरा लंड उसकी योनि गया तो उसकी योनि टाइट थी मेरा लंड उसकी योनि की गहराइयों में उतरा तो उसके मुंह से आह की आवाज निकल आई उसकी आवाज से मेरा जोश दोगुना हो गया। मैंने उसके पैरों को चौड़ा करते हुए उसे बड़ी तेज गति से धक्के देने प्रारंभ कर दिए। मेरे धक्के इतने तेज होती उसका बदन हील जाता और उसके स्तन भी हिल रहे थे। वह मुझे कहने लगी आज ना जाने तुम्हें देखकर मुझे ऐसा क्या हो गया। मैंने उसे कहा मैं भी आज तुम्हारे बदन को देखकर अपने आपको नहीं रोक पाया मेरे अंदर तुम्हें चोदने की भावना पड़ोसन आंटी की रसीली चूत पैदा हो गई थी। “Barish Wala Romantic Sex Kahani”

वह मुझे कहने लगी मैं तो उसी वक्त समझ गई थी जब हम दोनों बाइक से घर आ रहे थे मैंने तुम्हारे लंड पर हाथ लगाया तो मेरा मूड खराब हो गया था। यह कहते हुए वह अपने पैरों को चौड़ा करने लगी और मैं भी उसे तेज गति से धक्के देने लगा। उसके शरीर से करंट निकलने लगा था मेरे अंदर का जोश भी बढ़ने लगा। उसकी योनि चिकनी हो गई मेरे लंड उसकी योनि के अंदर बाहर होने लगा मेरा लंड मुझे ऐसा लगने लगा जैसे कि कोई स्प्रिंग हो। मेरा लंड बिल्कुल स्प्रिंग की तरह हो गया था वह बड तेजी से अंदर बाहर होता। जब वह झड़ने वाली थी तो उसने मुझे अपने दोनों पैरों के बीच में कसकर जकड़ लिया मैं हिल भी नहीं पा रहा था लेकिन मैं उसे धक्के मारता जाता जैसे ही मेरा वीर्य पतन प्रीति की योनि के अंदर हो गया तो हम दोनों एक दूसरे को पकड़कर काफी देर तक साथ मे लेटे रहे। Barish Me Romance Ki Kahani…

Leave a Reply

%d bloggers like this: